बड़ी खबर: LAC पर जवानों से मिले मोदी, चीन हुआ बेचैन

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के अचानक लेह पहुंचने से चीन की बेचैनी सामने आई है​।​ उनकी लद्दाख में मौजूदगी के बीच ​ही चीनी विदेश मंत्रालय ने ​एक बयान ​में कहा है कि कोई भी पक्ष कुछ भी ऐसा न करे, जिसे माहौल खराब हो​​​​।​ प्रतिदिन होने वाली ब्रीफिंग में चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिंजियान ने कहा कि भारत और चीन लगातार सैन्य और ​कूटनीतिक बातचीत के जरिए ​सीमा पर जारी तनाव को कम करने में लगे हुए हैं​​।​ ऐसे में किसी भी पार्टी को कुछ भी ऐसा नहीं करना चाहिए, जिससे बॉर्डर पर तनाव पैदा हो​​।

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी लेह में सिन्धु नदी के तट पर 11,000 फीट की ऊंचाई पर सेना की पोस्ट नीमू पर पहुंचे और ​​सेना के जवानों से बातचीत की। उनके साथ चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे भी मौजूद रहे। ​​सेना के वरिष्ठ अधिकारियों ने पूर्वी लद्दाख की वास्तविक नियंत्रण रेखा के हालात को लेकर प्रधानमंत्री को विस्तृत जानकारी दी। ​प्रधानमंत्री ने लद्दाख के गवर्नर आरके माथुर से भी मुलाक़ात की। ​प्रधानमंत्री ने वहां जवानों की एक सभा को भी संबोधित किया।प्रधानमंत्री मोदी का अचानक लेह पहुंचना चीन और पाकिस्तान के लिए एक कड़ा संदेश माना जा रहा है।​ ​इस दौरे पर​ आज केवल बिपिन रावत को ही आना था लेकिन प्रधानमंत्री ने ​उनके साथ ​खुद पहुंचकर सभी को चौंका दिया।
PM ने लद्दाख में लेह के पास आईटीबीपी, थल सेना और वायु सेना के जवानों के साथ बातचीत की।​ ​सेना के वरिष्ठ अधिकारियों ने पूर्वी लद्दाख की वास्तविक नियंत्रण रेखा के हालात को लेकर प्रधानमंत्री को विस्तृत जानकारी दी।​ मोदी ने इस दौरान बिपिन रावत से लद्दाख का पूरा नक्शा भी समझा​ और ​​भारत​-चीन सीमा की जमीनी हकीकत ​के बारे में जानकारी ली।​​ सीडीएस ​बिपिन रावत ​ने ​उन्हें बताया कि ​चीन भारत के किन हिस्सों पर कब्जा जमा रखा है​ और ​वह भारत के किन हिस्सों पर अपनी दावेदारी बताता है​​।​ ​यह भी बताया कि चीन​ भारतीय क्षेत्र में कहां​-कहां घुसपैठ करने की कोशिश कर रहा है​​​​।
प्रधानमंत्री जब चीन से तनाव के बीच सैनिकों का मनोबल बढ़ाने के लिए अचानक उनके बीच पहुंचे तो सैनिकों ने वन्दे मातरम् और भारत माता ​​की जय के नारों ​से ​उनका स्वागत किया​।​ लद्दाख सीमा से लौटकर प्रधानमंत्री लेह के उस आर्मी अस्पताल में पहुंचे जहां 15/16 जून की रात गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हुई हिंसक झड़प में घायल हुए भारतीय सैनिक भर्ती हैं​।​ ​पीएम मोदी ने इन जवानों के स्वास्थ्य के बारे में जाना और उनकी भी हौसला अफजाई की​।​

प्रधानमंत्री मोदी जिस ​​​नीमू पोस्ट​ पर पहुंचे, वह समुद्री तल से 11 हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित है​ और इसे दुनिया की सबसे ऊंची और खतरनाक पोस्ट में से एक मा​नी जाती है​​​​​​।​ ​​यह इलाका सिंधु नदी के किनारों पर स्थित है​ जहां पर सिंधु और जन्सकार नदी आपस में मिलती ​हैं। ​यहीं से सिंधु नदी उत्तर पश्चिम में पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर की तरफ बढ़ जाती है।​​ भारत ने यहीं पर आलची नामक गांव में नीमू-बाजगो पनबिजली परियोजना बना​ई है​ जिसका पाकिस्तान ने विरोध किया था।​ यह ​नीमू इलाका​ लेह से कारगिल के रास्ते में पड़ता है​ और लेह जिले की लिकिर तहसील का हिस्सा​ है​।​ ​बहुत ही दुर्गम क्षेत्र​ के रूप में इस इलाके का अक्साई चिन और पीओके के लिहाज से ​भी सामरिक महत्व है। ​​गर्मियों में यहां का तापमान 40 डिग्री ​और सर्दियों में -29 डिग्री तक हो जाता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button