भारतीय सेना का शौर्य व मां भारती की रक्षा के लिए समर्पण अतुलनीय है: PM मोदी

"जब देश की रक्षा आपके हाथ में है, आपके मजबूत इरादों में है तो सिर्फ मुझे ही नहीं बल्कि पूरे देश को अटूट विश्वास है और देश निश्चिंत भी है। आपकी भुजाएं, उन चट्टानों जैसी मजबूत हैं जो आपके इर्द-गिर्द हैं। आपकी इच्छाशक्ति आसपास के पर्वतों की तरह अटल है। आपका यह हौसला, शौर्य और मां भारती के मान-सम्मान की रक्षा के लिए आपका समर्पण अतुलनीय है।"

नई दिल्ली. शुक्रवार को लद्दाख के दौर पर पहुंचे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने परिस्थितयों का जायजा लेने के बाद यहां तैनात जवानों और सेना अधिकारियों का हौंसला बढ़ाते हुए कहा, “जब देश की रक्षा आपके हाथ में है, आपके मजबूत इरादों में है तो सिर्फ मुझे ही नहीं बल्कि पूरे देश को अटूट विश्वास है और देश निश्चिंत भी है। आपकी भुजाएं, उन चट्टानों जैसी मजबूत हैं जो आपके इर्द-गिर्द हैं। आपकी इच्छाशक्ति आसपास के पर्वतों की तरह अटल है। आपका यह हौसला, शौर्य और मां भारती के मान-सम्मान की रक्षा के लिए आपका समर्पण अतुलनीय है।”PM मोदी ने कहा कि जिन कठिन परिस्थितियों में जिस ऊंचाई पर आप मां भारती की ढाल बनकर उसकी रक्षा, उसकी सेवा करते हैं, उसका मुकाबला पूरे विश्व में कोई नहीं कर सकता। उन्होंने कहा कि अभी जो आपने और आपके साथियों ने वीरता दिखाई है, उसने पूरी दुनिया में यह संदेश दिया है कि भारत की ताकत क्या है। मैं गलवान घाटी में शहीद हुए सैनिकों को आज फिर से श्रद्धांजलि देता हूं। उनके पराक्रम, उनके सिंहनाद से धरती अब भी उनकी जयकार कर रही है।
भारतीय सेना के जवानों की तारीफ करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि 14 कोर की जांबाजी के किस्से हर तरफ हैं। दुनिया ने आपका अदम्य साहस देखा है। आपकी शौर्य गाथाएं घर-घर में गूंज रही हैं। भारत के दुश्मनों ने आपकी फायर भी देखी है और आपकी फ्यूरी भी। मोदी ने कहा कि विस्तारवाद का युग खत्म हो चुका है। अब विकासवाद का समय आ गया है। तेजी से बदलते हुए समय में विकासवाद ही प्रासंगिक है। विकासवाद के लिए अवसर है और विकासवाद ही भविष्य का आधार है।
उन्होंने कहा कि जब भी मैं राष्ट्रीय सुरक्षा पर आधारित निर्णय लेने के बारे में सोचता हूं तो मैं दो माताओं के बारे में सोचता हूं। पहली भारत माता और दूसरी हमारी माताएं हैं, जिन्होंने आप जैसे बहादुरों को जन्म दिया है। उन्होंने कहा कि मैं अपने सामने महिला सैनिकों को देख रहा हूं। सीमा पर युद्ध के मैदान में यह दृश्य प्रेरणादायक है। वहीं इससे पहले जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जवानों के बीच पहुंचे तो वहां मौजूद जवानों ने भारत माता की जय और वंदे मातरम के नारे लगाए।

लद्दाख सीमा पर चीनी सेनाओं के साथ जारी तनाव के बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी शुक्रवार सुबह अचानक लेह पहुंचे। उनके इस तरह लेह पहुंचने से हर कोई चौंक गया। मोदी के साथ इस दौरान चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत तथा सेना प्रमुख MM नरवणे भी मौजूद रहे। लेह पहुंचने पर प्रधानमंत्री को सेना, वायुसेना के अधिकारियों ने जमीनी हालात की जानकारी दी है।

PM नरेन्द्र मोदी इस दौरान नीमू की फॉरवर्ड पोस्ट पर पहुंचे। उन्होंने सेना, वायुसेना के अधिकारियों के साथ बातचीत कर हालात का जायाजा लिया। इसके बाद प्रधानमंत्री लेह के वॉर मेमोरियल हॉल ऑफ फेम पहुंचे और जवानों को श्रद्धांजलि दी। वह सैन्य अस्पताल में घायल जवानों से मुलाकात करने भी गए, जहां उन्होंने भारतीय सैनिकों के पराक्रम की सराहना की। इस दौरान प्रधानमंत्री ने 14 कॉर्प्स के अधिकारियों से बात की। नॉर्दन आर्मी कमांड के लेफ्टिनेंट जनरल वाईके जोशी, लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह भी इस दौरान मौजूद रहे।

आपको बता दे, कि प्रधानमंत्री से पहले शुक्रवार को केवल रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को लेह आना था, लेकिन गुरुवार को उनके कार्यक्रम में बदलाव कर दिया गया और फिर तय हुआ कि बिपिन रावत ही लेह आएंगे। लेकिन आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के पहुंचते ही सभी चकित रह गए। साथ ही पीएम मोदी के इस औचक दौरे से पाकिस्तान और चीन को एक कड़ा संदेश भी गया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button