कानपुर की घटना से सतर्क हुई गोरखपुर पुलिस, छापेमारी के लिए गठित होगी ‘विशेष कमांडो फोर्स’

ATS और STF दबीश में कमांडो का इस्तेमाल होता है। हालांकि यह दबीश बड़े मामलों को लेकर ही होती है। किंतु कई बार ट्रेनिंग के अभाव में पुलिस गच्चा खा जाती है। शायद यही वजह है कि कई मामलों में पुलिस को मौका-ए-वारदात पर पिटते या भागने की सूचनाएं आती रहीं हैं। यह वजह है कि पुलिस अफसरों ने प्रत्येक जिले में दस-दस जवानों को कमांडो ट्रेनिंग दिलाने का निर्णय लिया है।

गोरखपुर. कानपुर में अपराधियों द्वारा एक CO समेत 09 पुलिसकर्मियों को मारने की घटना के बाद पुलिस काफी सतर्क हो गयी है। अब इनकी धर-पकड़ के लिए ‘फ्रंट लाइन पुलिस फोर्स के गठन की तैयारियां शुरू हो गईं हैं।फोर्स के जवानों को न केवल कमांडो ट्रेनिंग दी जाएगी बल्कि ये अत्याधुनिक हथियार चलाने में भी दक्ष होंगे। गोरखपुर रेंज के DIG राजेश मोडक ने इसके लिए रेंज के चारों जिलों के पुलिस कप्तानों से 10-10 जवानों के नाम मांगे हैं।
पुलिस सूत्रों का कहना है कि रेंज के चार जिलों के जवानों की कमांडो ट्रेनिंग के लिए डीआईजी मोदक ने ATS के SP से बात कर ली है। सूची मिलने का बाद कुछ जरूरी कागजी कार्रवाई पूरी कर इन्हें ट्रेनिंग में भेज दिया जाएगा। ट्रेनिंग की तिथि वहीं से तय होगी।
ATS और STF दबीश में कमांडो का इस्तेमाल होता है। हालांकि यह दबीश बड़े मामलों को लेकर ही होती है। किंतु कई बार ट्रेनिंग के अभाव में पुलिस गच्चा खा जाती है। शायद यही वजह है कि कई मामलों में पुलिस को मौका-ए-वारदात पर पिटते या भागने की सूचनाएं आती रहीं हैं। यह वजह है कि पुलिस अफसरों ने प्रत्येक जिले में दस-दस जवानों को कमांडो ट्रेनिंग दिलाने का निर्णय लिया है।
पुलिस सूत्रों की मानें तो कमांडो ट्रेनिंग लेने वाले चुनिंदा जवानों को ही अब जरूरत पड़ने पर फ्रंट लाइन पर भेजा जाएगा। ट्रेनिंग के बाद ये शारीरिक और मानसिक रूप से इतने पुष्ट हो जाएंगे कि किसी भी असंभावित घटना का भी सामना कर सकेंगे। अत्याधुनिक हथियारों से लैस ये जवान त्वरित गति से लक्ष्य को साधने में भी सक्षम होंगे।
गुरु गोरक्षनाथ की धरती गोरखपुर और भगवान बुद्ध की धरती कुशीनगर व महराजगंज जिलों में भी आतंकी घटनाओं की गुंजाइशें हैं। कई बार यहां से आतंकी भी पकड़े गए हैं। इस दॄष्टि से गोरखपुर रेंज के ये सभी जिले काफी संवेदनशील हैं। ऐसे में इस विशेष कमांडो दस्ता की जरूरत पड़ सकती है। लिहाजा यहां इस तरह की फोर्स की जरूरत महसूस की जा रही है। बता दें कि गोरखपुर, महराजगंज, कुशीनगर व देवरिया में अब ATS की तरह पुलिस के विशेष कमांडो दस्ते में शामिल जवान भी काम करेंगे।
DIG राजेश डी मोदक द्वारा सभी जिलों के पुलिस कप्तानों को भेजी गई चिट्ठी के मुताबिक विशेष कमांडो दस्ता के लिए तेज तर्रार व शारीरिक रूप से फिट 10-10 जवानों के ही नाम भेजे जांय। बताया जा रहा है कि इसके पीछे कानपुर और गोरखपुर में मारे गए बदमाश विपिन से हुए मुठभेड़ जैसे मौकों पर अच्छी तरह से प्रशिक्षण कमांडो पुलिसकर्मी ही बदमाशों का अच्छी तरह से सामना कर सकते हैं।
इस सम्बन्ध में DIG राजेश डी मोडक का कहना है कि रेंज के चारों जिलों में 10-10 कमांडो ट्रेनिंग वाले पुलिस जवान तैयार करने की कोशिश है। इन्हें कठिन हालात में फ्रंट लाइन पर बदमाशों का मुकाबला करने में सक्षम बनाया जाएगा। ATS के SP से बात की है और चारों जिले के पुलिस कप्तानों से 10-10 पुलिस जवानों के नाम मांगे गए हैं। नाम मिलते ही उनकी सूची ATS को भेज दी जाएगी। वहां से तय के कार्यक्रम के मुताबिक ट्रेनिंग पूरी कराई जाएगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button