MP: प्रदेश के 22 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

मौसम विभाग ने अपने बुलेटिन में कहा है कि प्रदेश के रीवा और शहडोल संभागों के साथ ही छिंदवाड़ा, सिवनी, बालाघाट, बैतूल, खरगौन, धार, इंदौर, रतलाम, उज्जैन, देवास, शाजापुर, आगर मालवा और मंदसौर जिलों में भारी बारिश होने की चेतावनी जारी की है। मौसम विभाग ने इसके लिए यलो अलर्ट जारी किया गया है।

मानसून. मध्यप्रदेश में मानसून अपना असर दिखा रहा है। प्रदेश के कई जिलों से बारिश की खबरें आ रही है। राजधानी भोपाल में शनिवार रात को गरज चमक के साथ बारिश की बौछारे गिरी। वही रविवार सुबह से आसमान में बादल छाए हुए हैं और रिमझिम बारिश भी हो रही है। हालांकि, बादल छाने के बाद भी उमस ने परेशान कर दिया है। मौसम विभाग ने एक बार फिर भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। इसके लिए 22 जिलों को अलर्ट किया गया है।वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक PK साहा ने बताया कि मानसून ट्रफ प्रदेश में ग्वालियर, सतना से होते हुए बंगाल की खाड़ी तक जा रहा है। इसी तह पूर्वी उत्तर प्रदेश, पश्चिमी गुजरात समेत आससपास कई सिस्टम बने हुए हैं। बंगाल की खाड़ी और अरब सागर दोनों ओर से नमी मिल रही है। इन सबके असर के चलते पूर्वी और पश्चिमी मध्यप्रदेश समेत राजधानी में अगले दो तीन दिनों तक अच्छी बारिश की संभावना है।
इसके अलावा लगातार बारिश से तापमान में भी गिरावट का दौर जारी है। भोपाल में न्यूनतम तापमान 25.9 डिग्री दर्ज किया गया। दिन चढऩे के साथ ही बारिश थम गई है। इस बीच लोगों को गर्मी और उमस से राहत मिली है। दोपहर बाद एक बार फिर बादल छाए और शाम पांच बजे से बौछारें पडऩी शुरू हो गई, जो रुक-रुककर रात तक जारी रही।

मौसम विभाग ने अपने बुलेटिन में कहा है कि प्रदेश के रीवा और शहडोल संभागों के साथ ही छिंदवाड़ा, सिवनी, बालाघाट, बैतूल, खरगौन, धार, इंदौर, रतलाम, उज्जैन, देवास, शाजापुर, आगर मालवा और मंदसौर जिलों में भारी बारिश होने की चेतावनी जारी की है। मौसम विभाग ने इसके लिए यलो अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विभाग के ताजा बुलेटन के मुताबिक प्रदेश के शहडोल, जबलपुर, इंदौर और उज्जैन संभागों के जिलों में तथा रीवा, सागर, भोपाल, होशंगाबाद, ग्वालियर और चंबल संभागों के जिलों में बारिश होगी। इसके अलावा इनमें से कुछ जिलों में गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ सकती हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button