उत्तराखंड शिक्षा बोर्ड ने कंटेनमेंट जोन के 10वीं और 12वीं के छात्रों को बड़ी राहत, छूटे विषयों में होंगे पास

दो या दो से कम विषयों या प्रश्नपत्रों की परीक्षा देने वाले छात्र-छात्राओं को औसत अंक के हिसाब से अंक दिए जाएंगे। हालांकि औसत अंकों से संतुष्ट न होने वाले छात्र-छात्राओं के लिए उन विषयों या प्रश्नपत्र की परीक्षा का विकल्प भी है। हालात सामान्य होने पर बोर्ड परीक्षा कराएगा लेकिन बाद की परीक्षा में चाहे कम या अधिक जो भी नम्बर आएंगे, उन्हें ही अधिकृत अंकपत्र में शामिल किया जाएगा।

देहरादून. उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा परिषद के हाईस्कूल और 12वीं के उन छात्र-छात्राओं के लिए राहत भरी खबर है, जो या तो जोखिम क्षेत्र  में निवासरत थे या उनका परीक्षा केंद्र जोखिम क्षेत्र में था। इसके कारण परीक्षा से वंचित छात्र-छात्राओं का परिणाम औसत अंकों के आधार पर जारी किया जाएगा। कोरोना संक्रमण के कारण गृह एकांतवास या परीक्षा केंद्र से भिन्न अन्य जनपदों या प्रदेशों में प्रवास होने आदि के कारण 22 जून से 25 जून के दौरान परीक्षा में शामिल होने से वंचित रहे इन परीक्षार्थियों को यह राहत दी गई है।राज्य के सचिव आर मीनाक्षी सुंदरम ने इस आशय के आदेश आज जारी किए हैं। आदेश में उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा परिषद, रामनगर को निर्देशित किया गया है कि हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट परिषदीय परीक्षा वर्ष 2020 के कंटेनमेंट जोन में निवासरत परीक्षार्थियों के छूटे विषयों अथवा प्रश्नपत्रों की परीक्षाओं एवं परीक्षाफल तैयार करते समय इसका ध्यान रखा जाए। जिन परीक्षार्थियों ने चार या उससे अधिक विषयों या प्रश्नपत्रों की परीक्षा दी हैं, उनका परिणाम तीन सर्वाधिक अंक प्राप्त करने वाले विषयों या प्रश्नपत्रों के औसत के आधार पर जारी होगा। तीन परीक्षाएं देने वाले छात्र-छात्राओं का परिणाम दो सर्वाधिक अंक वाले विषयों के औसत अंकों के हिसाब से निर्धारित होगा।

दो या दो से कम विषयों या प्रश्नपत्रों की परीक्षा देने वाले छात्र-छात्राओं को औसत अंक के हिसाब से अंक दिए जाएंगे। हालांकि औसत अंकों से संतुष्ट न होने वाले छात्र-छात्राओं के लिए उन विषयों या प्रश्नपत्र की परीक्षा का विकल्प भी है। हालात सामान्य होने पर बोर्ड परीक्षा कराएगा लेकिन बाद की परीक्षा में चाहे कम या अधिक जो भी नम्बर आएंगे, उन्हें ही अधिकृत अंकपत्र में शामिल किया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि यह राहत उन छात्र-छात्राओं को नहीं मिलेगी, जो दो मार्च से 21 मार्च की अवधि में आयोजित किसी विषय या प्रश्नपत्र की परीक्षा में अनुपस्थित रहे हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button