‘हर घर नल’ योजना राज्य सरकार की प्राथमिकता, 2022 तक पूरी की जाए योजना: CM योगी

मुख्यमंत्री बुधवार को अपने सरकारी आवास पर ‘जल जीवन मिशन’ के सम्बन्ध में केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत के साथ वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के दौरान अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि 30 जून को बुन्देलखण्ड क्षेत्र के झांसी, ललितपुर तथा महोबा जनपदों की 12 ग्रामीण पाइप पेयजल परियोजनाओं के निर्माण कार्यों का शुभारम्भ किया जा चुका है।

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि ‘जल जीवन मिशन’ के अन्तर्गत ‘हर घर नल’ योजना वर्ष 2022 तक 04 चरणों के तहत पूरी की जाएगी। उन्होंने कहा कि इन 04 चरणों में बुन्देलखण्ड, विन्ध्य क्षेत्र, आर्सेनिक/फ्लोराइड तथा जेई/एईएस से प्रभावित क्षेत्र शामिल हैं। इन सभी चरणों के तहत ‘जल जीवन मिशन’ के कार्यक्रम एक साथ सम्पादित किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मार्गदर्शन में संचालित ‘हर घर नल’ योजना राज्य सरकार की प्राथमिकता है। शुद्ध पेयजल की उपलब्धता विकास और समृद्धि के लिए आवश्यक है।मुख्यमंत्री बुधवार को अपने सरकारी आवास पर ‘जल जीवन मिशन’ के सम्बन्ध में केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत के साथ वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के दौरान अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि 30 जून को बुन्देलखण्ड क्षेत्र के झांसी, ललितपुर तथा महोबा जनपदों की 12 ग्रामीण पाइप पेयजल परियोजनाओं के निर्माण कार्यों का शुभारम्भ किया जा चुका है। शेष 04 जनपदों के निर्माण कार्य भी शीघ्र प्रारम्भ हो जाएंगे। इसके साथ ही, विन्ध्य क्षेत्र के मिर्जापुर व सोनभद्र जनपदों में निर्माण कार्यों का शीघ्र शुभारम्भ किए जाने की कार्यवाही हो रही है। आर्सेनिक/फ्लोराइड तथा जे0ई0/ए0ई0एस0 प्रभावित क्षेत्रों में डी0पी0आर0 की कार्यवाही की जा रही है।

खुली निविदा के माध्यम से उच्च गुणवत्ता वाली एजेन्सियों के चयन के जरिये निर्माण कार्यों को कराया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत सरकार में जल शक्ति मंत्रालय का गठन किए जाने के अनुरूप ही प्रदेश में भी जल शक्ति मंत्रालय का गठन किया गया है। उन्होंने कहा कि ‘स्वच्छ भारत मिशन’ की तर्ज पर ही ‘जल जीवन मिशन’ के कार्यक्रमों और योजनाओं को मिशन मोड में संचालित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि ‘जल जीवन मिशन’ की योजनाओं के लक्ष्यों को समयबद्ध ढंग से पूर्ण किए जाने के सम्बन्ध में प्रत्येक माह उनके स्तर से भी समीक्षा की जाएगी।

केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने कहा कि प्रधानमंत्री ने वर्ष 2024 तक ‘हर घर नल’ योजना से पेयजल पहुंचाने का लक्ष्य निर्धारित किया था, जिसे वर्ष 2022 तक पूर्ण किए जाने का प्रयास किया जा रहा है। उत्तर प्रदेश में इसकी सफलता के लिए समयबद्ध ढंग से कार्य किया जाना आवश्यक है, जिसके लिए धनराशि की कोई कमी नहीं होने दी जाएगी। उन्होंने आशा व्यक्त की कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कुशल नेतृत्व में उत्तर प्रदेश ‘हर घर नल’ योजना के लक्ष्यों को हासिल करने में सफल होगा।

इस अवसर पर प्रदेश के जल शक्ति मंत्री डाॅ0 महेन्द्र सिंह, केन्द्रीय सचिव जल शक्ति मंत्रालय परमेश्वरन अय्यर, केन्द्रीय अपर सचिव जल शक्ति भरत लाल, प्रमुख सचिव नमामि गंगे एवं ग्रामीण जल संसाधन अनुराग श्रीवास्तव, अपर मुख्य सचिव सिंचाई टी0 वेंकटेश, अपर मुख्य सचिव मुख्यमंत्री एस0पी0 गोयल, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री संजय प्रसाद सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button