इस राज्य की जनता कर रही मांग, अपराधियों के खिलाफ UP जैसी हो कठोर कार्रवाई

उत्तरप्रेदश की पुलिस ने बदमाशों को उनकी सही जगह पहुंचा दिया। अब दिल्ली के लोग भी दिल्ली के माफियाओं और दंगाइयों के खिलाफ भी ऐसी ही कार्रवाई चाहते हैं। दिल्ली के लोगों की मांग है कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी दिल्ली के दंगाइयों के खिलाफ उत्तरप्रदेश जैसी कार्रवाई करें।

नई दिल्ली. उत्‍तर प्रदेश के गैंगस्टर विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद अब दिल्ली के लोग भी दुर्दांत अपराधियों और कट्टरपंथियों के खिलाफ ऐसी ही कार्रवाई की मांग करने लगे हैं। विकास दुबे की घिनौनी करतूत के तुरंत बाद उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पुलिस से दो टूक कह दिया था कि आरोपियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई हो। उत्तरप्रेदश की पुलिस ने बदमाशों को उनकी सही जगह पहुंचा दिया। अब दिल्ली के लोग भी दिल्ली के माफियाओं और दंगाइयों के खिलाफ भी ऐसी ही कार्रवाई चाहते हैं। दिल्ली के लोगों की मांग है कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी दिल्ली के दंगाइयों के खिलाफ उत्तरप्रदेश जैसी कार्रवाई करें।दक्षिणी दिल्ली BJP के उपाध्यक्ष अधिवक्ता जितेंद्र कुमार रेक्सवाल ने कहा कि शाहीनबाग की आड़ में शांति की डफली बजाई जाती रही। दो महीने तक जब उनकी मंशा पूरी नहीं हुई तो जाफराबाद में उनके चेहरों से नकाब उतर गए। दिल्ली जलनी शुरू हो गई। गोलियां, पत्थर, पेट्रोल बम चलाए गए। हिंसा में 46 से ज्यादा लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया।
287 मकान जले, 79 घर खाक हो गए, 327 दुकानें जलीं, 422 लोग घायल हुए। तीन दिन तक उत्तरी-पूर्वी दिल्ली के लाखों लोग घरों में कैद होने को मजबूर हो गए। हालात देखकर लग रहा था जैसे हम देश की राजधानी में नहीं, बल्कि आतंकवाद से ग्रस्त सीरिया में रहते हैं। लेकिन दिल्ली के मुख्यमंत्री ने दंगाइयों के खिलाफ चुप्पी साध ली थी। दंगों का मुख्य आरोपी ताहिर हुसैन उनकी पार्टी का ही पार्षद था।
दिल्ली हाईकोर्ट के अधिवक्ता हीरासिंह भाटी का कहना है कि दिल्ली दंगों में दुर्दांत घटना को अंजाम देने वालों के खिलाफ भी मुख्यमंत्री केजरीवाल उत्तरप्रदेश जैसी कार्रवाई पर जोर दें। पुलिस ने ताहिर हुसैन के घर की तलाशी में छत से तेजाब की बोतलें, पेट्रोल बम का जखीरा, गुलेल और बोरियों में भरे पत्थर बरामद किये थे। जाफराबाद ही नहीं चांदपुर, सीलमपुर, कर्दमपुरी जैसे इलाकों में कट्टरपंथियों ने खून की होली खेली थी। दिल्ली पुलिस के हेड कांस्टेबल रतनलाल और खुफिया अधिकारी अंकित शर्मा की दंगाईयों ने निर्मम हत्या करदी थी। कट्टरपंथियों ने जौहरीपुर के रहने वाले विवेक के सिर में ड्रिल जैसी एक मशीन के आर्मेचर का नुकीला सिरा धंसा दिया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button