UP के गोंडा जिले में टिड्डियों का हमला, चट कर गईं किसानों की सैकड़ों हेक्टेयर फसल

किसानों की सहायता के लिए कृषि विभाग ने मोबाइल नंबर भी जारी किए हैं। जिला कृषि अधिकारी ने किसानों से अपील की है कि गांव में टिड्डियों का दल प्रवेश करते ही विभाग को सूचित करें ताकि समय के रहते इन पर नियंत्रण किया जा सके। 

गोंडा. जनपद में टिड्डियों की दस्तक से अन्नदाता के बीच हाहाकार मच गया है। रविवार की शाम लखनऊ से बाराबंकी होते हुए घाघरा नदी को पार कर जनपद की सीमा भभुआ में टिड्डी दल ने प्रवेश कर कर्नलगंज तहसील के कई गांव में जमकर आतंक मचाया। किसानों की गन्ना धान सहित तमाम पेड़ पौधों के पत्तियों को टिड्डियों ने चट कर दिया। आनन-फानन में किसानों द्वारा खेतों में पहुंचकर थाली व अन्य ध्वनि देने वाले यंत्रों से जमकर शोर मचाया तो टिड्डियां आगे बढ़ गई।
रविवार को जनपद में प्रवेश करने के बाद कर्नलगंज तहसील के गांव में टिड्डियों का दल पूरी रात ठहरा रहा। कृषि विभाग द्वारा फायर ब्रिगेड व गन्ना विभाग के सहयोग से छिड़काव किया गया है। जिसमें अधिकांश टिड्डियों को मारा गया है। किसान पूरी रात अपने अपने खेतों में ध्वनि करते नजर आए। सुबह होते ही टिड्डियों का दल सदर तहसील के गांव में प्रवेश कर चुका है। वर्तमान समय में टिड्डियों का दल का दल बेहड़ा चौबे, मोकलपुर, सहित आसपास के गांव में उत्पाद मचा रहा है।
किसान अपने अपने खेतों पर मुस्तैद होकर ध्वनि कर रहे हैं ताकि टिड्डियों का झुंड आगे बढ़ जाए। किसान की लाख कोशिशों के बाद भी जिले में सैकड़ों हेक्टेयर फसल सहित तमाम पेड़ पौधों को टिड्डी दल चट गया हैं। किसानों की सहायता के लिए कृषि विभाग ने मोबाइल नंबर भी जारी किए हैं। जिला कृषि अधिकारी ने किसानों से अपील की है कि गांव में टिड्डियों का दल प्रवेश करते ही विभाग को सूचित करें ताकि समय के रहते इन पर नियंत्रण किया जा सके।
उप निदेशक कृषि मुकुल तिवारी ने बताया कि जिन पेड़ों पर टिड्डियों का दल बैठ गया उस पेड़ की पत्तियों को काटकर नीचे गिरा दिया और फसलों को पूरी तरह से चौपट करते हुए आगे बढ़ रहा है। टिड्डियों का दल लाखों करोड़ो की संख्या में बाग के पेड़ों पर जहां भी बैठा उनकी संख्या और वजन इतना अधिक है कि पेड़ और डाल झुक जा रही है।ग्रामीण थाली, ढोल नगाड़ा बजाकर टिड्डियों को भगा रहे हैं। विभाग केमिकल का छिड़काव करा रहा है। यदि सोमवार को गोण्डा में टिड्डी दल रुकता है तो ड्रोन कैमरे की मदद से दवा का छिड़काव किया जाएगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button