बिकरु कांड: एनकाउंटर में मारे गए कार्तिकेय उर्फ प्रभात मिश्रा, बहन ने किया बड़ा खुलासा

UP पुलिस का कहना है कि कर्तिकेय उर्फ प्रभात बिकरू गांव में पुलिस टीम पर गोलियां बरसाने में शामिल था। प्रभात  को फरीदाबाद पुलिस ने गिरफ्तार किया था। उसे कोर्ट पेश करने के बाद UP STF को ट्रांजिट रिमांड पर दिया था। UP STF उसे रिमांड पर कानपुर ला रही थी तभी पनकी थाना क्षेत्र में गाड़ी खराब हो गयी।

क्राइम डेस्क. बिकरू गांव में सीओ समेत आठ पुलिस कर्मियों की हत्या की जांच बराबर जारी है। इस जांच में एक के बाद एक खुलासा हो रहा है। मुठभेड़ में मारे गए मुख्य आरोपित विकास दुबे के करीबी कार्तिकेय उर्फ प्रभात की बहन हिमांशी ने भाई को नाबालिग बताया है। उसने प्रभात की मार्कशीट भी दिखायी है। 
हिमांशी ने पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा कि बिना गलती के मेरे भाई को मारा गया और मेरे पिता को भी झूठा फंसाया गया है। परिवार में किसी का भी कोई आपराधिक ​रिकार्ड नहीं है। पुलिस की तीन बार तलाशी लेने के बाद भी घर से कोई साक्ष्य नहीं मिला था। हिमांशी ने अपने भाई की मार्कशीट भी दिखायी हैं उसमें उसकी जन्मतिथि 27 मई 2004 दर्ज है।

फरीदाबाद पुलिस ने किया था गिरफ्तार


UP पुलिस का कहना है कि कर्तिकेय उर्फ प्रभात बिकरू गांव में पुलिस टीम पर गोलियां बरसाने में शामिल था। प्रभात  को फरीदाबाद पुलिस ने गिरफ्तार किया था। उसे कोर्ट पेश करने के बाद UP STF को ट्रांजिट रिमांड पर दिया था। UP STF उसे रिमांड पर कानपुर ला रही थी तभी पनकी थाना क्षेत्र में गाड़ी खराब हो गयी। इस बीच प्रभात ने STF के एक दरोगा की पिस्टल छिनकर भागने लगा, जब पुलिस ने उसे रोका तो फायरिंग शुरू कर दी। जवाबी फायरिंग में प्रभात मिश्रा मारा गया था। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button