उत्तर प्रदेश: बांदा में स्वास्थ्य कर्मियों पर कोरोना का कहर, 10 स्वास्थकर्मी संक्रमित

इस बारे में जिला अस्पताल के CMS डॉ संपूर्णानंद मिश्र ने बताया कि टूनेट मशीन में संक्रमित पाए गए स्वास्थ्य कर्मियों की रिपोर्ट झांसी भेजी गई थी। झांसी में भी रिपोर्ट पाजिटिव आई है।उन्होंने बताया कि जिला अस्पताल की 3 स्टाफ नर्स  भी संक्रमितो में शामिल है। जनपद मुख्यालय में राजकीय मेडिकल कॉलेज को कोविड-19 अस्पताल बनाया गया है।

हेल्थ डेस्क. जनपद बांदा में कोरोना महामारी से निपटने के लिए जहां डॉक्टर से लेकर नर्स और वार्ड वाय तक जान जोखिम में डालकर कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज कर रहे हैं।वही यह महामारी स्वास्थ्य कर्मियों को ही अपनी चपेट में ले रही है।जिससे मेडिकल कॉलेज और जिला अस्पताल में अन्य मरीजों का इलाज भी बाधित हो रहा है।आज जनपद में एक साथ  10 स्वास्थ्य कर्मी संक्रमित पाए गए हैं।जिससे स्वास्थ्य विभाग में सनसनी फैल गई है।
आज जो मरीज संक्रमित पाए गए हैं उनमें जिला अस्पताल की तीन स्टाफ नर्स और शेष मेडिकल कॉलेज की नर्स व अन्य स्वास्थ्य कर्मी शामिल है ।इनमें चार महिलाएं और छह पुरुष शामिल हैं।अब जनपद में संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 88 हो गई है।इस आशय की जानकारी चित्रकूट धाम मंडल के आयुक्त गौरव दयाल ने दी। उन्होंने बताया कि जनपद में इस समय एक्टिव मरीजों की संख्या 32 है जबकि 46 ठीक हो कर जा चुके हैं।
इस बारे में जिला अस्पताल के CMS डॉ संपूर्णानंद मिश्र ने बताया कि टूनेट मशीन में संक्रमित पाए गए स्वास्थ्य कर्मियों की रिपोर्ट झांसी भेजी गई थी। झांसी में भी रिपोर्ट पाजिटिव आई है।उन्होंने बताया कि जिला अस्पताल की 3 स्टाफ नर्स  भी संक्रमितो में शामिल है।
जनपद मुख्यालय में राजकीय मेडिकल कॉलेज को कोविड-19 अस्पताल बनाया गया है।जहां बांदा के अलावा चित्रकूट, हमीरपुर और महोबा के संक्रमित मरीजों को आईसोलोशन वार्ड में रखकर इलाज किया जाता है। इधर तमाम सतर्कता और सुरक्षा के इंतजाम के बाद भी यहां के डॉक्टर और स्वास्थ्य कर्मी संक्रमण के घेरे में आ रहे हैं। इसके पूर्व मेडिकल कॉलेज के प्रधानाचार्य संक्रमित हो हुए थे, उसके बाद उनकी पत्नी भी चपेट में आ गई ।अब उनका इलाज PGI लखनऊ में हो रहा है। इस तरह एक-एक करके यहां 9 डॉक्टर और 19 स्वास्थ्य कर्मियों को कोरोना संक्रमित पाया गया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button