चित्रकूट: पुलिस मुठभेड़ में 50 हजार का इनामी डकैत हनीफ गिरफ्तार

बीहड़ से मिल रही जानकारी के अनुसार 50 हजार का इनामी डकैत हनीफ पाठा के बीहड़ में आतंक का पर्याय रहे दस्यु ददुआ गैंग का सक्रिय सदस्य था। राजनैतिक सरंक्षण प्राप्त होने के कारण कभी पुलिस रिकार्ड दर्ज नहीं हुआ। 

क्राइम डेस्क. कानपुर के शातिर अपराधी विकास दुबे का एनकाउंटर करने के बाद से उत्तर प्रदेश पुलिस अपराधियों के लिए काल बनती जा रही है। एक्शन मुड में नजर आ रही है। योगी सरकार के अपराध पर जीरो टॉलरेंस की नीति को प्रभावी तरीके से लागू करने में जुटे चित्रकूट SP अंकित मित्तल की टीम ने पाठा के जंगल में हुई मुठभेड़ में 50 हजार के इनामी डकैत हनीफ को गिरफ्तार करने में बड़ी सफलता हासिल की है। पकड़े गये बदमाश के पास से एक बंदूक व कारतूस बरामद किया है।
मिली जानकारी के अनुसार शासन के निर्देश पर तेज तर्रार पुलिस अधीक्षक अंकित मित्तल की अगुवाई में फरार डकैतों और शातिर अपराधियों के खिलाफ विशेष अभियान चलाया जा रहा है। शुक्रवार को मुखबिर से मिली सूचना के आधार पर दबिश देकर चित्रकूट पुलिस ने मानिकपुर थाना क्षेत्र के चुरेह केशरूवा जंगल में हुई मुठभेड़ में सक्रिय रहे 50 हजार के ईनामी डकैत हनीफ को गिरफ्तार किया है।
मुठभेड़ के दौरान गोली लगने से घायल डकैत हनीफ को उपचार के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मानिकपुर में भर्ती कराया गया है। पुलिस अधीक्षक अंकित मित्तल ने मौके पर पहुंच पकड़े गये ईनामी डकैत से पूछताछ की। साथ ही इस उपलब्धि के लिए एसपी ने मानिकपुर पुलिस की पूरी टीम को बधाई दी है। डकैत हनीफ के साथ हुई मुठभेड़ में मानिकपुर थाना प्रभारी के.के.मिश्र, सब इंस्पेक्टर अनिल साहू और चौकी प्रभारी तपेश मिश्र आदि शामिल रहे।
कौन था डकैत हनीफ?
बीहड़ से मिल रही जानकारी के अनुसार 50 हजार का इनामी डकैत हनीफ पाठा के बीहड़ में आतंक का पर्याय रहे दस्यु ददुआ गैंग का सक्रिय सदस्य था। राजनैतिक सरंक्षण प्राप्त होने के कारण कभी पुलिस रिकार्ड दर्ज नहीं हुआ।
जानकारी के अनुसार पुलिस के सबसे बड़े मुखबिर चन्दन यादव की हत्या भी डकैत हनीफ ने किया था। गैंग में शंकरवा नाम से जाना जाता था। वास्तविक नाम हनीफ था लेकिन प्रकाश में कभी लाया नहीं गया। अब पुलिस के लिए सबसे बड़ी चुनौती यह है कि इसके ऊपर कौन से राजनेताओं का संरक्षण रहा है।
अधूरी रह गई डकैत हनीफ की कसम-
आपको बता दें कि डकैत हनीफ ने वरिष्ठ भाजपा नेता एवं मउ के पूर्व ब्लाक प्रमुख नवल मिश्र को मारने की कसम खाई थी। लेकिन उसके पकड़े जाने के बाद उसकी ये कसम अधूरी ही रह गई। फिलहाल नवल मिश्र ने पुलिस की इस सफलता हेतु उन्हें बधाई दी है। बहरहाल युवा एसपी अंकित मित्तल की अगुवाई में चित्रकूट पुलिस लगातार जनपद से खौफ एवं आतंक खात्मा करने में जुटी है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button