उत्तराखंड: वीकेंड लॉक डाउन का व्यापक असर, सड़कों पर पसरा सन्नाटा

आवश्यक सेवाओं से जुड़े वाहनों और मिष्ठान,वाइन, मछली, मांस की प्रतिष्ठानों के अलावा सभी दुकानें बंद रहीं। बाजार और सड़कों को सेनेटाइज किया गया।

देहरादून. उत्तराखंड में कोरोना के बढ़ते खतरे के मद्देनजर वीकेंड के पहले दिन शनिवार को देहरादून में लॉक डाउन को सफल बनाने लिए पुलिस  मुस्तैद रही। लॉक डाउन का शहर और ग्रमीण इलाकों में व्यापक असर रहा। आवश्यक सेवाओं से जुड़े वाहनों और मिष्ठान,वाइन, मछली, मांस की प्रतिष्ठानों के अलावा सभी दुकानें बंद रहीं। बाजार और सड़कों को सेनेटाइज किया गया। घर से बेवजह  बाहर निकले लोगों का चालान किया गया। सड़कों पर घुड़सवार पुलिस भी तैनात रही। निगम की बसों के अलावा ऑटो और विक्रम सेवा भी बंद रही।
उल्लेखनीय है कि राज्य के चार जिलों देहरादून, हरिद्वार, उधमसिंह नगर और नैनीताल को शासन ने अगले आदेश तक हर शनिवार और रविवार को पूर्ण रूप से बंद रखने का फैसला किया है। शनिवार को देहरादून में दो दिन की बंदी को लेकर सुबह दूध, सब्जी सहित आवश्यक सेवाओं को जुटाने के लिए सुबह लोग घरों से बाहर निकले। पुलिस लोगों से घरों में रहने की अपील करती रही।
घंटा घर स्थित बंगाली स्वीट के दुकानदार का कहना है कि दुकान तो खुली है लेकिन बंदी के चलते लोग आ नहीं रहे हैं। SP सिटी श्वेता चौबे का कहना है कि किसी को भी नियमों का उल्लंघन नहीं करने दिया जाएगा। लॉक डाउन में आवश्यक सेवाओं-दवा की दुकानों, पेट्रोल पंपों, गैस एजेंसियों, शिफ्ट में काम करने वाले उद्योगों, कृषि, निर्माण गतिविधियों, होटल, शराब दुकानों और इनसे जुड़े लोगों को आने-जाने में छूट दी गई है। साथ ही बस, ट्रेन और विमान से आए लोगों को गंतव्य तक जाने और माल ढुलान की अनुमति है। इसके साथ ही इस बार त्योहार को ध्यान में रखते मिष्ठान की दुकानों को छूट दी गई है। बाहरी जिलों से अन्य जिलों में वे ही पर्यटक जा पाएंगे, जिनकी पहले से बुकिंग है।
गंभीर रूप से बीमार और गर्भवती महिलाओं को आने-जाने की छूट दी गई है। मुख्य सचिव उत्पल कुमार ने जो एसओपी जारी की है, उसमें पहाड़ी जिलों को इससे छूट दी गई है।रोडवेज के महाप्रबंधक संचालन दीपक जैन का कहना है कि राज्य में दो दिन बसों का संचालन नहीं होगा। यदि दूसरे जनपदों में पर्वतीय मार्ग से पर्वतीय मार्ग पर संचालन की बेहद जरूरत होगी तो वहां के लिए बसें रिजर्व हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button