31 जुलाई तक बिजली के बिलों का भुगतान करना अनिवार्य, वरना होगी कार्रवाई

अब उनके लिये पीवीवीएनएल ने 31 जुलाई अंतिम तिथि निर्धारित की है। यदि कोई उपभोक्ता ली गई सुविधा का बकाया का भुगतान तय तिथि तक नहीं करता है तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

मेरठ. पीवीवीएनएल ने बिजली बकायदारों पर अपने तेवर सख्त कर लिया है। जिन उपभोक्ताओं ने आसान किस्त योजना और किसान आसान किस्त योजना के तहत पंजीकरण कराये थे, लेकिन कोरोना माहमारी के कारण लॉकडाउन में बिजली बिल का जमा नहीं कर पाए या जिन्होंने पिछले तीन महीने में केवल एक-दो किस्त ही जमा कराई थी, अब उनके लिये पीवीवीएनएल ने 31 जुलाई अंतिम तिथि निर्धारित की है। यदि कोई उपभोक्ता ली गई सुविधा का बकाया का भुगतान तय तिथि तक नहीं करता है तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

बकाएदारों ने बकाया किस्त अदा नहीं की तो-

पीवीवीएनएल के एमडी अरविंद मल्लप्पा बंगारी ने अपने दिए निर्देश में कहा कि 31 जुलाई तक यदि दोनों योजनाओं के उपभोक्ताओं ने बकाएदारों ने बकाया किस्त अदा नहीं की तो उनका नाम बकायेदारों की सूची में शामिल किया जाएगा। उन्हें फिर किश्तों का लाभ नहीं मिल पायेगा, उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

पीवीवीएनएल अधिकारियों के निर्देशों के बाद बड़े बकाएदारों में खलबली मच गई है। बतातें चलें कि आसान किश्त योजना के अंतर्गत शहरी क्षेत्रों के उपभोक्ताओं के लिए 12 किस्त बनाई गई हैं तथा ग्रामीण क्षेत्र के उपभोक्ताओं के लिए 24 किस्ते बनाई गई हैं। इसमें वे धनराशि का 5 प्रतिशत या न्यूनतम रु 1500 के साथ वर्तमान बिल का भुगतान कर सकते हैं। किसान आसान किश्त योजना में किसानों को पुराने बिल का भुगतान 6 किश्तों में करना होगा। बिलों की किस्त का समय पर भुगतान करने वाले लोगों को अतिरिक्त जुर्माना या ब्याज नहीं भरना पड़ेगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button