यस बैंक का कर्ज नहीं चुका पाये अनिल अंबानी, तो बैंक ने किया ये काम

बैंक ने 2,892 करोड़ रुपये का बकाया कर्ज नहीं चुकाने की वजह से अनिल धीरूभाई अंबानी समूह ग्रुप का हेडक्वार्टर रिलायंस सेंटर जब्त कर लिया है। ये मुंबई के सांताक्रूज इलाके में स्थित 21,000 स्क्वेयर फीट का मुख्यालय है।

नई दिल्ली.  मुकेश अंबानी से भी अमीर रहे अनिल अंबानी अब परेशानियों का सामना कर रहे हैं। बुरी तरह से कर्ज में फंसे रिलायंस ग्रुप के अनिल अंबानी का बुरा वक्त है कि खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहा है। अनिल अंबानी को एक के बाद एक झटके मिल रहे हैं।दरअसल, निजी क्षेत्र के यस बैंक ने लोन डिफॉल्ट को लेकर अनिल अंबानी के रिलायंस ग्रुप के खिलाफ कड़ा एक्शन लिया है।

बैंक ने 2,892 करोड़ रुपये का बकाया कर्ज नहीं चुकाने की वजह से अनिल धीरूभाई अंबानी समूह ग्रुप का हेडक्वार्टर रिलायंस सेंटर जब्त कर लिया है। ये मुंबई के सांताक्रूज इलाके में स्थित 21,000 स्क्वेयर फीट का मुख्यालय है। इसके अलावा बैंक ने दक्षिण मुंबई में स्थित नागिन महल के भी दो फ्लोर बैंक ने अपने नियंत्रण में ले लिए हैं। ये दोनों फ्लैट क्रमश: 1,717 वर्ग फुट और 4,936 वर्ग फुट के हैं।इस तरह, यस बैंक के कब्जे में रिलायंस ग्रुप की तीन संपत्तियां आ गई हैं।

बैंक ने सिक्योरिटाइजेशन एंड रिकंस्ट्रक्शन ऑफ फाइनेंशियल एसेट्स एंड एनफोर्समेंट ऑफ सिक्योरिटी इंटरेस्ट एक्ट ऐक्ट के तहत 22 जुलाई को यह कार्रवाई की है। अनिल अंबानी की ओर से 2,892 करोड़ रुपये का कर्ज न दे पाने के बाद बैंक ने यह कार्रवाई की है।

यस बैंक ने कहा कि उसने ये कदम उठाने से पहले छह मई को रिलायंस इन्फ्रास्ट्रक्चर को 2,892.44 करोड़ रुपये का बकाया चुकाने का नोटिस दिया था। रिलायंस को 60 दिनों का नोटिस दिया गया था। रिलायंस की तरह से कोई जवाब न आने के बाद ये कदम उठाया गया है।

आपको बता दें कि अनिल अंबानी ने देश के कई बैंकों से कर्ज ले रखा है. इसमें एक बैंक यस बैंक भी है। इस बैंक के मालिक राणा कपूर पर बैंक को कर्ज में डालने जैसे काफी बड़े आरोप लगे हैं, और अब यह भी मुश्किलों का सामना कर रहे हैं। बैंक की हालात को सुधारने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक ने इस यस बैंक की कमान अब देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक को सौंप दी है। जिसके तहत ही एसबीआई यस बैंक के साथ मिलकर अब कर्ज वसूली में सख्ती कर रहा है। इसी क्रम में यस बैंक ने अनिल अंबानी के मुख्यालय को जब्त किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button