बड़ी खबर: पाकिस्तान की लाहौर जेल मे 11 वर्षों से बंद मीरजापुर का पुनवासी जल्द होगा रिहा

पाकिस्तान के लौहार जेल से भारतीय विदेश मंत्रालय को करीब दो महीने पहले एक पत्र भेजा गया था। उसमें बताया गया कि मीरजापुर जनपद में रहने वाला व्यक्ति पुनवासी पिछले 11 सालों से लौहार जेल में बंद है।

मीरजापुर।। पाकिस्तान के लाहौर जेल में 11 सालों से बंद चल रहे मीरजापुर के भरूहना निवासी पुनवासी (45) पुत्र कुंदरलाल के जल्द छूटने के आसार बन गए हैं। केंद्र सरकार को युवक के लाहौर जेल में बंद होने की जानकारी मिलने पर उसके बारे में पूरा सत्यापन कराकर विदेश मंत्रालय के माध्यम से पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय को रिपोर्ट भेज दी गई है। दो महीने के अंदर युवक के लाहौर जेल से छूटने की संभावना जताई जा रही है।

 

पाकिस्तान के लौहार जेल से भारतीय विदेश मंत्रालय को करीब दो महीने पहले एक पत्र भेजा गया था। उसमें बताया गया कि मीरजापुर जनपद में रहने वाला व्यक्ति पुनवासी पिछले 11 सालों से लौहार जेल में बंद है। वह बिना वीजा के पाकिस्तान में आ गया था। इसकी जानकारी होने पर पुलिस ने आरोपित को पकड़कर जेल भेज दिया था। उसे कोर्ट से सात साल की सजा मिली थी जो 2017 में पूरी हो गई थी। उसकी पहचान नहीं हाेने के कारण उसे अभी तक छोड़ा नहीं गया है। वह आज भी जेल में बंद है।

जानकारी होने पर विदेश मंत्रालय की ओर से पुलिस अधीक्षक मीरजापुर को मामले की जांच कराकर युवक की रिपोर्ट देने का निर्देश दिया गया। पुलिस ने आरोपित युवक की जांच की तो पाया कि उसका नाम पुनवासी दलित है और उसके पिता का नाम कुंदर लाल है, जबकि पाकिस्तान में उसके पिता का नाम कन्हैयालाल लिखा गया है।

पुनवासी कुल छह भाई मिठाई लाल, मतरू, शंकर, मुरली, गोनू हैं। एक बहन किरन भी है। इसमें पांच भाइयों की मौत हो चुकी है। परिवार के लोगों ने बताया कि पुनवासी की मानसिक स्थिति ठीक नहीं है। वह 11 वर्ष पूर्व कहीं चला गया था। इसके बाद घर नहीं लौटा। वह अनपढ़ है इसलिए मजदूरी का काम करता था।

अपर पुलिस अधीक्षक संजय वर्मा ने बताया कि मीरजापुर के देहात कोतवाली क्षेत्र के भरूहना निवासी पुनवासी नाम का एक व्यक्ति पाकिस्तान जेल में बंद है। उसे छुड़ाने के लिए सरकार की ओर से पहल की गई है। रिपोर्ट भेज दी गई है। एक-दो महीने के अंदर छूट जाएगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button