मासूम आबिद को मिली जिंदगी की सौगात, दिल में छेद का हुआ सफल इलाज

चोलापुर ब्लॉक के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ आरबी यादव ने बताया कि लाल मोहम्मद के नौ माह के बच्चे का जन्मजात दोष दिल में छेद का सफलतापूर्वक निःशुल्क उपचार किया गया।

वाराणसी।। जनपद के चोलापुर ब्लॉक धौरहरा मनियार पट्टी के मासूम आबिद को जिंदगी की सौगात चिकित्सकों ने दी है। शुक्रवार को मासूम के दिल में छेद का सफल उपचार बिना पैसे के कर राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम (आरबीएसके) की टीम ने भी बड़ी उपलब्धि पाई है। इसकी जानकारी होने पर जिले के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा.वी.बी. सिंह ने भी आरबीएसके की टीम को सराहा और उनसे लगातार इसी तरह के कार्य की अपेक्षा भी की। बच्चे के सफल इलाज पर उसके माता पिता भी खुश है। बच्चे के पिता लाल मोहम्मद ने स्वास्थ्य विभाग की इस योजना का आभार भी जताया।

चोलापुर ब्लॉक के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ आरबी यादव ने बताया कि लाल मोहम्मद के नौ माह के बच्चे का जन्मजात दोष दिल में छेद का सफलतापूर्वक निःशुल्क उपचार किया गया। इलाज के बाद बच्चा पूर्ण रूप से स्वस्थ है। सरकार कोविड-19 काल में कोरोना के साथ ही साथ अन्य गंभीर बीमारियों के इलाज के लिए प्रत्येक स्तर पर प्रयास कर रही है। सफल आपरेशन करने वाली टीम में डॉ. अमित, डॉ. प्रतिभा, पूनम पाल एवं संजय भारती शामिल है।

उन्होंने बताया कि 30 सितम्बर को गंभीर जन्मजात दोष दिल में छेद से ग्रसित एक नौ माह के बच्चे आबिद को विजिट के दौरान चिन्हित किया गया। बच्चे के दिल में छेद होने की वजह से वह सामान्य बच्चों की तरह खेल कूद में असमर्थ था। वहीं, माता-पिता अति कमजोर वर्ग के होने की वजह से बच्चे के इलाज कराने में असमर्थ थे।

उन्होंने बताया कि बच्चे के पिता लाल मोहम्मद ने एक दो बार निजी चिकित्सालय में इलाज के लिए संपर्क किया लेकिन बहुत अधिक रुपये लगने की वजह से उन्हें निराशा ही हाथ लगी। डॉ. यादव ने बताया कि आरबीएसके टीम चिन्हित किए जाने के बाद अलीगढ़ के मेडिकल कॉलेज जो कि राज्य सरकार द्वारा इस बीमारी के उपचार के लिए अनुबंधित है, से संपर्क कर बच्चे को वहाँ के लिए संदर्भित किया ।

कोविड-19 प्रोटोकॉल को ध्यान रखते हुये बच्चे और उसके माता-पिता की कोरोना जांच हुयी और जांच में निगेटिव आने के बाद 7 अक्टूबर को सभी अलीगढ़ पहुंचे और तत्पश्चात बच्चे को भर्ती कराया गया। स्थिति की गंभीरता को देखते हुये मेडिकल कॉलेज ने तुरंत बच्चे की इको जांच कराई। अन्य जांच के पूरा होने के बाद आज सफलतापूर्वक हृदय की सर्जरी की गई ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button