रामविलास पासवान का पार्थिव शरीर पहुंचा पटना, CM नीतीश सहित गणमान्यों ने दी श्रद्धांजलि

राजधानी पटना के लोकनायक जयप्रकाश नारायण अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर सबसे पहले रामविलास पासवान के पार्थिव शरीर को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया।

पटना।। लोक जनशक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व जमुई सांसद चिराग पासवान अपने पिता, लोजपा के संस्थापक और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का पार्थिव शरीर लेकर विशेष विमान से शुक्रवार की शाम करीब सात बजे दिल्ली से पटना पहुंचे। साथ में उनकी मां, बहन-बहनोई सहित अन्य परिजन थे। रामविलास पासवान के पार्थिव शरीर के साथ केंद्र सरकार के प्रतिनिधि के रूप में केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद भी दिल्ली से साथ आये।

राजधानी पटना के लोकनायक जयप्रकाश नारायण अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर सबसे पहले रामविलास पासवान के पार्थिव शरीर को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। इसके बाद विधानसभा अध्यक्ष विजय चौधरी, विधान परिषद अध्यक्ष अवधेश नारायण सिंह, गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय, केंद्रीय राज्यमंत्री अश्विनी कुमार चौबे, केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, रामविलास पासवान के भाई पशुपति कुमार पारस, नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव सहित कई गणमान्य लोगों ने श्रद्धा सुमन अर्पित किये।

यहां से रामविलास पासवान का पार्थिव शरीर अंतिम दर्शन के लिए विधान मंडल परिसर ले जाया गया। शनिवार को पटना के दीघा घाट पर राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा।उल्लेखनीय है कि एक दिन पहले गुरुवार को रामविलास पासवान का 74 साल की उम्र में दिल्ली के फोर्टिस एस्कॉर्ट हॉस्पिटल में निधन हो गया। वे पिछले कुछ महीनों से बीमार थे और 11 सितंबर को अस्पताल में भर्ती हुए थे। एम्स में 2 अक्टूबर की रात उनकी हार्ट सर्जरी हुई थी। इससे पहले भी एक बायपास सर्जरी हो चुकी थी।

हाजीपुर जोनल ऑफिल और अंबेडकर जयंती पर राष्ट्रीय अवकाश पासवान की देन–

पासवान के नाम कई उपलब्धियां हैं। हाजीपुर में रेलवे का जोनल ऑफिस उन्हीं की देन है। अंबेडकर जयंती के दिन राष्ट्रीय अवकाश की घोषणा पासवान की पहल पर ही हुई थी। राजनीति में बाबा साहब अंबेडकर, जेपी और राजनारायण को अपना आदर्श मानने वाले पासवान ने राजनीति में कभी पीछे पलट कर नहीं देखा। वे मूल रूप से समाजवादी बैकग्राउंड के नेता थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button