‘अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस‘ के अवसर पर जियो और जीने दो कार्यक्रम का हुआ आयोजन, बालिकाओं के हक को लेकर हुई चर्चा

प्रधान तारिक शाह ने कहा कि आज का दिन बालिकाओं के महत्व को महसूस करने का दिन है। लड़कियों को एक परिवार और समाज में समान अधिकार और अवसर प्रदान किए जाने की आवश्यकता है।

उधमपुर।। अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस‘ के अवसर पर गैर सरकारी संगठन ‘जियो और जीने दो‘ के सदस्यों द्वारा प्रधान तारिक शाह की अध्यक्षता में एक कार्यक्रम संगठन के मीटिंग हॉल में आयोजित किया गया, जिसमें बालिकाओं के हक और समाज में उनके स्थान और उनसे जुड़े विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की गई।

प्रधान तारिक शाह ने कहा कि आज का दिन बालिकाओं के महत्व को महसूस करने का दिन है। लड़कियों को एक परिवार और समाज में समान अधिकार और अवसर प्रदान किए जाने की आवश्यकता है। इसमें कोई संदेह नहीं कि हमारी धार्मिक पुस्तकों में लड़कियों को देवी का दर्जा प्रदान किया गया है । लेकिन फिर भी समाज की कई घटनाएं जैसे हाथरस, राजस्थान, कठुआ और कई अन्य घटनाए हमें शर्मसार करती हैं ।

ऐसे हादसे लड़कियों को घर से बाहर आने से रोकती हैं और शिक्षा हासिल करने जाने या अपने परिवार के लिए काम करने के लिए निराश करते हैं । हमें सोचना चाहिए कि हमारी बेटियाँ सुरक्षित क्यों नहीं हैं और ऐसी शर्मनाक घटनाएं क्यों एक सभ्य समाज में घटित होती हैं। आज जरूरत है तो बस लड़कियों के प्रति हमारी मानसिकता और नजरिया बदलने की। हम महिलाओं को समाज में शीर्ष स्थान हासिल करते हुए देखते हैं और यह तभी संभव है, जब लड़कियों को परिवारों और समाज में भी प्रोत्साहित किया जाए।

संगठन की उप प्रधान परवीन अख्तर ने कहा कि हमारे समाज में कई कुप्रथाएं प्रचलित हैं जैसे दहेज प्रथा, बेटियों की शादियों पर भारी खर्च और इस तरह की कई अन्य कुप्रथाएं जिनकी वजह से हमारी बेटियों को बोझ समझा जाता है। हमें ऐसी परंपराओं को छोड़ना चाहिए। हमारे संगठन ने ‘बेटी बसाओ‘ कार्यक्रम की शुरुआत करके अपनी पूरी कोशिश की है कि इसके माध्यम से संदेश दिया जाए कि विवाह समारोह कम बजट के साथ भी हो सकते हैं। कई अन्य लोगों ने भी इस मुद्दे पर अपने विचार व्यक्त किए।
कार्यक्रम में प्रधान तारिक शाह के साथ, उप प्रधान परवीन अख्तर, अजब खुराना, संजय, सुरजीत, अकीब, अली, अख्तर, रशपाल, एजाज और अन्य लोग उपस्थित थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button