नवरात्र में खुले आनंदेश्वर मंदिर के पट, भक्तों को मिला बाबा का आशीर्वाद

देश में कोरोना काल के प्रारम्भ से ही नगर के प्रसिद्ध मन्दिरों को भक्तों के लिए बन्द कर दिया गया था। भक्त लॉकडाउन शुरु होने तक केवल बाहर से ही दर्शन का लाभ पा रहे थे।

कानपुर।। नवरात्र का दिन वैसे तो माता देवी के मंदिर के लिए विशेष महत्व होता है, लेकिन कानपुर का आनंदेश्वर मंदिर एक ऐसा मंदिर है जहां पर भक्तों की अटूट आस्था होती है। इसी के चलते आज नवरात्र के पहले दिन जब मंदिर के पट खुले तो भक्तों की भीड़ लग गई। मंदिर प्रबंधन तंत्र ने कोविड का पालन कराते हुए भक्तों को दर्शन कराएं और भक्त बाबा के दर्शन पाकर खिल उठे।

देश में कोरोना काल के प्रारम्भ से ही नगर के प्रसिद्ध मन्दिरों को भक्तों के लिए बन्द कर दिया गया था। भक्त लॉकडाउन शुरु होने तक केवल बाहर से ही दर्शन का लाभ पा रहे थे। अब सब कुछ अनलॉक होने के बाद से जिला प्रशासन ने शहर के सभी मन्दिरों को खोलने की अनुमति भी प्रदान कर दी थी। रविवार को शहर के सबसे प्रसिद्ध शिव मन्दिर बाबा आनन्देंश्वर को भक्तों के लिए पूरी तरह से खोल दिया गया।

सुबह 5 बजे मंगला आरती के बाद से बाबा के दर्शन करने के लिए भक्तों का आना जाना पूरी तरह से पूर्व की ही भांति हो गया। बाबा के 217 दिनों के बाद मात्र स्पर्श व दर्शन से ही भक्त निहाल हो उठे और भोले बाबा की जयकार करते रहे। हालांकि बाबा आनन्देश्वूर मन्दिर के प्रबंधतन्त्र ने भक्तों को कोविड काल के लिए बनाए गए प्रोटोकाल मानने के बाद ही मन्दिर के भीतर प्रवेश दिया। बाबा को इतने दिनों के बाद स्पर्र्श कर भक्तं भावुक और निहाल हो उठे।

नवरात्रि के दूसरे दिन रविवार के चलते आज मन्दिर में महिला व पुरुषों की खासी भीड भी उमडी। बाबा के भक्त सत्य प्रकाश तिवारी ने बताया कि बाबा को स्पर्श कर अब कोरोना के संकट का अहसास ही नही रहा, लगता है अब बाबा जल्द ही कोरोना का विनाश कर देंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button