बिहार विधानसभा चुनाव: कोरोना से बचाव के लिए चुनाव आयोग ने किया ये अतरिक्त काम, इन बातों का रखा खास ध्यान

2019 के चुनाव में जिला में 1944 मतदान केंद्र बनाए गए थे। लेकिन इस चुनाव के लिए 2985 मतदान केंद्र बनाए गए हैं। पहले मतदान केंद्रों पर मतदाताओं की संख्या 16 सौ तक होती थी।

बेगूसराय।। बिहार विधान सभा चुनाव में इस साल वैश्विक महामारी कोरोना के कारण मतदान प्रक्रिया और व्यवस्था में कई बड़े बदलाव किए गए हैं। इस बार बदलाव के साथ साथ मतदान केंद्रों की संख्या में काफी वृद्धि की गई है। कोरोना संक्रमण से बचने के लिए यहां 1041 अतिरिक्त मतदान केंद्र बनाए गए हैं।

2019 के चुनाव में जिला में 1944 मतदान केंद्र बनाए गए थे। लेकिन इस चुनाव के लिए 2985 मतदान केंद्र बनाए गए हैं। पहले मतदान केंद्रों पर मतदाताओं की संख्या 16 सौ तक होती थी। लेकिन इस साल किसी की मतदान केंद्र पर एक हजार से अधिक मतदाता नहीं रहेंगे, जिससे मतदान की प्रक्रिया सहूलियत से संपन्न हो तथा मतदान प्रतिशत में भी वृद्धि हो जाए। पिछले विधानसभा चुनाव की तुलना में मतदाताओं की संख्या में भी काफी तेजी से वृद्धि हुई है।

बात करें मतदाता एवं मतदान केंद्रों की तो बेगूसराय के 19 लाख 95 हजार 979 मतदाताओं के लिए 2985 मतदान केंद्र बनाए गए हैं। सबसे अधिक तीन लाख 33 हजार 859 मतदाता मटिहानी विधानसभा क्षेत्र में हैं तथा 494 मतदान केंद्र बनाए गए हैं। बेगूसराय विधानसभा में तीन लाख 32 हजार 765 मतदाताओं के लिए 507 मतदान केंद्र, बछवाड़ा विधानसभा में दो लाख 79 हजार 502 मतदाताओं के लिए 427 मतदान केंद्र बनाए गए हैं।

तेघड़ा विधानसभा में दो लाख 79 हजार 519 मतदाताओं के लिए 422 मतदान केंद्र, बखरी (सुरक्षित) विधानसभा में दो लाख 66 हजार 415 मतदाताओं के लिए 389 मतदान केंद्र बनाए गए हैं। चेरिया बरियारपुर विधानसभा में दो लाख 47 हजार चार मतदाताओं के लिए 387 मतदान केंद्र तथा साहेबपुर कमाल में दो लाख 46 हजार 924 मतदाताओं के लिए 359 मतदान केंद्र बनाए गए हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button