BJP विधायक ने DM आवास पर जमीन पर लेट कर किया प्रदर्शन, कहा – SP मार डालेगा मुझे

बीजेपी विधायक धीरज ओझा ने आरोप लगाया कि पंचायत चुनाव लड़ने के इच्छुक एक शख्स को पांच महीने से मतदाता सूची में नाम नहीं जोड़ा जा रहा है।

प्रतापगढ़। भारतीय जनता पार्टी के विधायक धीरज ओझा ने बुधवार को डीएम आवास पर जमकर नौटंकी की। प्रशासन पर शिकायतों का निपटारा न करने का आरोप लगाते हुए बीजेपी विधायक अपने समर्थकों के साथ धरने पर बैठ गए। इस दौरान डीएम और एसपी चुनाव दौरे पर गए थे। हालांकि दोनों आला अधिकारी जल्द ही वापस मौके पर पहुँच गए। इसके बाद विधायक अचानक दफ्तर से बाहर जमीन में लेट कर विरोध प्रदर्शन करने लगे। धीरज ओझा चिल्ला-चिल्ला कर कह रहे थे कि एसपी मुझे मार डालेगा। बहुत खतरनाक आदमी है।

बीजेपी विधायक धीरज ओझा ने आरोप लगाया कि पंचायत चुनाव लड़ने के इच्छुक एक शख्स को पांच महीने से मतदाता सूची में नाम नहीं जोड़ा जा रहा है। इसके अलावा भी कई अन्य शिकायतें हैं, जिन पर प्रशासन कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है। जनता की समस्याओं को लेकर मुझे धरने पर बैठना पड़ा है। विधायक ने एसपी पर गोली मारने की धमकी देने का आरोप लगाया।

हंगामे और नारेबाजी के बीच विधायक धीरज ओझा डीएम के कार्यालय से फटे कपड़े में बाहर निकले। इसके बाद डीएम ने खुद विधायक को अपने पास बुलाया बंद कमरे में बातचीत की। इस दौरान जिले के कई आला अधिकारी भी मौजूद रहे। उधर एसपी आकाश तोमर ने विधायक द्वारा लगाए गए धमकी के आरोप को झूठा करार देते हुए कहा कि सम्पूर्ण प्रकरण से पुलिस का कोई संबंध नहीं है। एसपी ने कहा कि मैंने विधायक को दुर्व्यवहार करने से रोका तो मुझपर झूठा आरोप लगा दिया।

इससे पहले विधायक धीरज ओझा ने बताया कि आमिर और उसकी पत्नी शिवगढ़ में दबंग आदमी के खिलाफ चुनाव लड़ना चाहते थे। प्रशासन ने वोटर लिस्ट से उनका नाम हटा दिया। विधायक ने बताया कि वहां के बीएलओ भी लिख कर दे रहे हैं लेकिन राहुल यादव एसडीएम और सतीश त्रिपाठी अतिरिक्त मजिस्ट्रेट ने कोई जांच नहीं की और आज तक मतदाता सूची में नाम उसका दर्ज नहीं हो सका। पांच महीने से प्रशासन दौड़ा रहा है। इस दौरान उसके परिवार को धमकियां भी मिली।

विधायक ने कहा कि इसी तरह अन्य कई अन्य मामलों में पत्र लिखने के बावजूद डीएम, एसपी की तरफ से कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। धीरज ओझा ने कहा कि हमारी सरकार गुंडो पर कार्रवाई कर रही है, लेकिन प्रतापगढ़ प्रशासन गुंडों को संरक्षण दे रहा है। 38 मुकदमे वालों को जिला बदर नहीं किया जा रहा है। इन्हीं सब वजहों से मुझे डीएम आवास पर धरना देना पड़ा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button