यहां पुलिस की घेराबंदी तोड़कर सपाईयों ने सड़कों पर किया हंगामा, जानें क्या है पूरा मामला

मौदहा कस्बे में भी सपाईयों ने सरकार के खिलाफ सड़कों पर प्रदर्शन किया।

हमीरपुर ॥ प्रदेश सरकार की नीतियों के विरोध में सोमवार को यहां हमीरपुर में सपा के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने जिला पंचायत परिसर से सड़क पर निकलकर प्रदर्शन किया। कार्यकर्ताओं ने पुलिस की घेराबंदी को तोड़ते हुये धक्कामुक्की भी की। हालांकि प्रदर्शनकारियों के नेताओं को बस स्टाप में पुलिस ने रोक लिया। उधर मौदहा कस्बे में भी सपाईयों ने सरकार के खिलाफ सड़कों पर प्रदर्शन किया।

SP LEADER

प्रदेश में कानून व्यवस्था और किसानों के मुद्दे को लेकर सपा के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष प्रतिनिधि जितेन्द्र मिश्रा, ज्ञान सिंह यादव पूर्व जिलाध्यक्ष सपा समेत सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने सरकार के खिलाफ जिला पंचायत परिसर में एकत्र हुये।

सरकार के खिलाफ की गई नारेबाजी

स्थानीय पुलिस ने जिला पंचायत के मेन गेट पर कार्यकर्ताओं को रोकने की कोशिश की लेकिन भीड़ ने धक्कामुक्की करते हुये सड़क पर आ गये। सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुये प्रदर्शनकारी बस स्टाप की ओर मार्च किया तो महिला डिग्री कालेज के सामने पुलिस ने घेराबंदी कर सभी को रोक लिया। पुलिस के रोकने से सपाई भड़क गये।

कार्यकर्ताओं की भीड़ और पुलिस में तीखी नोंकझोंक के बाद धक्कामुक्की हुयी। बाद में पार्टी के नेताओं को पुलिस ने कलेक्ट्रेट परिसर तक पहुंचने से पहले ही रोक लिया। कार्यकर्ताओं ने सरकार विरोधी नारे भी लगाते हुये सड़क पर धरने में बैठ गये। सपा के वरिष्ठ नेता जितेन्द्र मिश्रा ने कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं है। किसान, बेरोजगार, नौजवान परेशान है। कोरोना महामारी के नियंत्रण करने में भी ये सरकार फेल रही।

उधर मौदहा क्षेत्र में पूर्व मंत्री एवं पूर्व सपा विधायक शिवचरण प्रजापति के नेतृत्व में पूर्व जिलाध्यक्ष इदरीश खान, पूर्व जिला महासचिव रईस अहमद, सपा के महासचिव कमरुद्दीन, नगर अध्यक्ष जबीर चौधरी, नगर पालिका अध्यक्ष रामकिशोर मामा, जिला सचिव मोहन बाबू, जिला उपाध्यक्ष जावेद मेजर, अनुसूचित जाति मोर्चा के जिलाध्यक्ष ओमप्रकाश सोनकर जिला सचिव इरशाद समेत बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं ने रहमानिया इण्टर कालेज से तहसील परिसर तक जुलूस निकालकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की।

विरोध प्रदर्शन के बाद एसडीएम राजेश कुमार चौरसिया को राज्यपाल को सम्बोधित एक ज्ञापन सपाईयों ने देकर विरोध जताया है। ज्ञापन में सरकार की गलत नीतियों के कारण कोरोना संकट बढ़ा है और कानून व्यवस्था पर भी सरकार फेल है। सरकार के गलत निर्णय के कारण ही किसान, नौजवान, व्यापारी व कमजोर वर्ग के लोग परेशान है। भ्रष्टाचार और घोटाले भी दिन प्रतिदिन बढ़ रहे है।ॉ

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button