इस प्रदेश में बदला मौसम, आंधी तूफान के साथ बारिश होने की संभावना

मौसम विभाग के अनुसार मध्य प्रदेश में ऐसे ही हालात बन रहे हैं। ऐसे बादलों के बनने की स्थित में कभी-कभी हवाओं की रफ्तार 60 किमी प्रति घंटे से भी ऊपर चली जाती है।

भोपाल।। मध्य प्रदेश सहित देश के कई शहरों पर प्री-मॉनसून जैसे हालात बन रहे हैं। राज्य में 18 से 22 मार्च के बीच तेज गरज के साथ बादलों के बरसने की सम्भावना जतायी गयी है। ऐसा मध्य भारत के राज्यों में गर्मी बढ़ने के कारण होने जा रहा है। तापमान बढऩे की स्थिति में जब गरज वाले बादल बनते हैं तब कुछ हिस्सों में तूफान जैसा बवंडर भी उठता है।

मौसम विभाग के अनुसार मध्य प्रदेश में ऐसे ही हालात बन रहे हैं। ऐसे बादलों के बनने की स्थित में कभी-कभी हवाओं की रफ्तार 60 किमी प्रति घंटे से भी ऊपर चली जाती है। मौसम विभाग ने बताया कि दक्षिणी मध्य प्रदेश में इस अवधि के दौरान बेमौसम बरसात की संभावना बन रही है। 18 से 22 मार्च के बीच इस संभावित मौसमी हलचल के दौरान कुछ इलाकों में गरज वाले बादल तबाही भी मचा सकते हैं।

वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक पीके साहा ने बताया कि दक्षिणी मध्य प्रदेश के कई शहरों में पारा 38 से 40 डिग्री के बीच पहुंच गया है और यह क्षेत्र देश के सबसे गर्म स्थानों में शामिल हो गए हैं। बढ़ती गर्मी और इस राज्य की भौगोलिक स्थिति के साथ मौसमी सिस्टम का सपोर्ट प्री-मॉनसून जैसी हलचल लेकर आएगा इस दौरान 3- 4 दिनों तक बारिश का दौर बना रहेगा। पीके साहा के अनुसार वर्तमान में कर्नाटक से दक्षिण-पश्चिमी मध्य प्रदेश तक एक द्रोणिका लाइन (ट्रफ) बना हुआ है।

इस सिस्टम के साथ निचले स्तर पर पूर्वी और ऊपरी हिस्से में पश्चिमी हवा का टकराव हो रहा है। पाकिस्तान और उससे लगे उत्तर भारत पर एक पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय है। इस सिस्टम के प्रभाव से राजस्थान पर भी एक प्रेरित चक्रवात बन गया है। उत्तर-मध्य महाराष्ट्र पर एक ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है। इससे प्रदेश में बड़े पैमाने पर नमी आ रही है। इससे इन क्षेत्रों में गरज-चमक के साथ बारिश होने लगी है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button