Chief Minister Gehlot ने कहा- सरकार की अकर्मण्यता के कारण भरी सर्दी में अपना हक मांग रहे किसान

Chief Minister Gehlot ने कहा कि केन्द्र सरकार की अकर्मण्यता के कारण भरी सर्दी के बावजूद किसान दिल्ली बॉर्डर पर बैठे है।

केन्द्रीय कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली की सरहदों पर भयंकर सर्दी के बावजूद डटे किसानों के लिए Chief Minister Gehlot ने बुधवार को गहरी चिंता जताई। Chief Minister Gehlot ने कहा कि केन्द्र सरकार की अकर्मण्यता के कारण भरी सर्दी के बावजूद किसान दिल्ली बॉर्डर पर बैठे है।

Chief Minister Gehlot
Chief Minister Gehlot

Chief Minister Gehlot ने बुधवार को ट्वीट किया कि औद्योगिक जगत, सीआईआई और एसोचैम ने किसान आंदोलन के चलते अर्थव्यवस्था को हो रहे भारी नुकसान को लेकर चिंता जताई है। पहले से ही बेपटरी हो चुकी देश की अर्थव्यवस्था पर इसका ज्यादा बुरा असर पड़ेगा। किसान स्वयं इस सर्दी के समय में सडक़ों पर कठिन स्थितियों में जूझ रहे हैं।

किंतु, दुर्भाग्यपूर्ण है कि सरकार की तरफ से उनकी समस्याओं को गंभीरता से लेने और इस गतिरोध को दूर करने का कोई सार्थक प्रयास नहीं होता दिख रहा।

Chief Minister Gehlot ने किसानों के प्रति चिंता जताने के दौरान केन्द्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने भी विपक्ष पर किसानों को बरगलाने और उनमें भ्रम फैलाने का आरोप लगाया। शेखावत ने प्रधानमंत्री मोदी की तस्वीर के साथ सोशल मीडिया पर कृषि बिलों को लेकर कुछ तथ्य पेश किए।

उन्होंने ने लिखा कि स्वतंत्र किसान-सशक्त किसान! कृषि बिलों को लेकर फैलाई जा रही भ्रांतियों में न आएं, इन अधिनियमों के बारे में जानें, इन्हें समझें और फिर अपनी राय बनाएं। उन्होंने एक अन्य ट्वीट में राजस्थान की कानून व्यवस्था को लेकर गहलोत सरकार को आड़े हाथों लिया।

Chief Minister Gehlot ने लिखा कि आपराधिक निरंकुशता राजस्थान का न्यू नॉर्मल बन गई है! अपराध की बढ़ती कड़ी में बांसवाड़ा, श्रीगंगानगर और सीकर में लूटपाट और हिंसा की घटनाएं पुलिस प्रशासन के प्रभावहीन होने का कटु सत्य है। मुख्यमंत्री जी, अपराध की मार झेलता राजस्थान आपसे कुछ उम्मीद रखता है।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button