अदालती निर्देश: ट्रम्प सरकार को लगा झटका, चीनी एप TIK-TOK को मिली राहत

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने इस महीने के शुरू में टिकटाक और ओरेकल को इस शर्त पर हरी झंडी दी थी कि मान्य समझौते में अमेरिकी सुरक्षा को कोई ख़तरा नहीं होगा।

नई दिल्ली।। फ़ेडरल जज ने टिकटाक की याचिका पर ट्रम्प प्रशासन की ओर से एप के डाउनलोड किए जाने संबंधी प्रयासों पर फ़िलहाल निषेधाज्ञा जारी कर दिए हैं। इससे ट्रम्प प्रशासन को झटका लगा है, जबकि चीनी एप टिकटाक को थोड़ी राहत मिली है। रविवार को अदालत ने विशेष रूप से याचिकाकर्ता बाइटडाँस की दलीलें सुनीं और निर्णय में कहा कि वह प्रस्तावित समझौते के अंतर्गत नई कंपनी के स्वामित्व पर जितना जल्दी हो, फ़ैसला कर लें।

वाशिंगटन डीसी स्थित यूएस डिस्ट्रिक्ट कोर्ट ने आदेश में कहा है कि टिकटाक एप की चीनी कंपनी बाइटडाँस समय रहते मौजूदा समझौते में ओरेकल-वालमार्ट के साथ मिलकर अमेरिका और चीनी सरकार से बातचीत कर समझौते को अंतिम रूप दे।

उल्लेखनीय है कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने इस महीने के शुरू में टिकटाक और ओरेकल को इस शर्त पर हरी झंडी दी थी कि मान्य समझौते में अमेरिकी सुरक्षा को कोई ख़तरा नहीं होगा। इसके लिए टिकटाक ने ट्रम्प प्रशासन के वाणिज्य विभाग में विदेशी विनियोजन समिति के सम्मुख समझौते संबंधी अपने दस्तावेज़ भी जमा करा दिए थे।

लेकिन समझौते की शर्तों में नई कंपनी टिकटाक ग्लोबल को लेकर एक नया विवाद खड़ा हो गया था। टिकटाक एप अमेरिकी युवाओं में बहुत लोकप्रिय है और इसके दस करोड़ से अधिक उपभोक्ता हैं। चीनी कंपनी बाइटडाँस नई कंपनी में 80 प्रतिशत अंश और पाँच में से चार निदेशक अपने रखना चाहती है।

इस पर ट्रम्प प्रशासन ने कड़ी आपत्ति की है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार नई कंपनी टिकटाक एप पर स्वामित्व का फ़ैसला नहीं होता है तो अमेरिकी वाणिज्य विभाग 12 नवम्बर से टिकटाक एप पर पूरी तरह प्रतिबंध लगाने पर विचार कर रहा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button