Farmer Movement: टिकैत के तेवर से सांसत में सरकार, दिल्ली की सीमाओं की किलेबंदी

किसान नेता राकेश टिकैत ने मंगलवार को किसान आंदोलन को लेकर बड़ी घोषणा करते हुए नारा दिया - 'कानून वापसी नहीं, तो घर वापसी नहीं' टिकैत ने कहा कि हमारा आंदोलन (Farmer Movement) अक्टूबर तक चलेगा।

नई दिल्‍ली। राजधानी की सीमाओं पर डटे किसानों का किसानों का का गुस्सा सातवें आसमान पर है। गाजीपुर बॉर्डर आंदोलन (Farmer Movement) का केंद्र हो गया है। हालांकि सिंघु और टीकरी बॉर्डर पर भी बड़ी तादाद में किसान उपस्थित हैं। इस बीच मंगलवार को गाजीपुर बॉर्डर पर किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि किसान आंदोलन अक्‍टूबर तक चलेगा। उसके बाद आगे की तारीख दी जाएगी। टिकैत के इस बयान ने केंद्र सरकार को सांसत में डाल दिया है।

Farmer Movement - rakesh tikait

किसान नेता राकेश टिकैत ने मंगलवार को किसान आंदोलन को लेकर बड़ी घोषणा करते हुए नारा दिया – ‘कानून वापसी नहीं, तो घर वापसी नहीं’ टिकैत ने कहा कि हमारा आंदोलन (Farmer Movement) अक्टूबर तक चलेगा। अक्टूबर के बाद आगे की तारीख देंगे। इसके साथ ही सरकार से वार्ता भी चलती रहेगी’। विपक्षी पार्टियों के नेताओं से मुलाकात के सवाल पर टिकैत ने कहा अगर हमारे समर्थन में विपक्ष आ रहा है तो कोई समस्‍या नहीं है। गणतंत्र दिवस पर हुए बवाल पर टिकैत ने कहा कि पंजाब की कौम बदनाम करने के लिए नौजवानों को बहकाया गया, उनको लाल किले का रास्ता बताया गया।

उल्लेखनीय है कि दिल्ली पुलिस ने सरकार के आदेश पर दिल्ली की सीमाओं की पूरी तरह से किलेबंदी कर दी है। कई लेयर की बैरिकेडिंग करके ऊपर कंटीली तारें बिछा दी गई हैं। सड़क पर नुकीली कीलें लगाई गई हैं। इसके साथ ही भारी तादाद में पुलिस और पैरामिलिट्री फोर्स तैनात है। केंद्र सरकार और दिल्‍ली पुलिस के इस रुख से किसान आक्रोशित हैं। (Farmer Movement)

Mining Scam: पूर्व IAS सत्येंद्र सिंह के ठिकानों पर CBI के छापे, मिली अकूत संपत्ति
Westernization सुनियोजित साजिश, सनातन परम्परा को मजबूत करना आवश्यक
Budget 2021 : ​रक्षा क्षेत्र का बजट 19 प्रतिशत बढ़ा, जानिए-जानिए क्या हुईं घोषणाएं
Nayak बनकर उभरे राकेश टिकैत, कई किसानों के आंदोलनों में 40 बार जा चुके हैं जेल
किसान आंदोलन : बागपत में किसानों पर बर्बर लाठीचार्ज, काटी गई गाजीपुर बार्डर की बिजली

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button