आप भी चाहते हैं जीवन में तरक्की तो अपना लें मुर्गे की ये 4 आदतें, नहीं होंगे असफल

अगर आप भी जीवन में तरक्की चाहते हैं तो आपको आर्चाय चाणक्य की कुछ बातों को जानना बनता है. चाणक्य ने अपने नीति शास्त्र में कहा है कि मनुष्य को अपने जीवन में तरक्की के लिए मुर्गे की कुछ आदतों को अपना लेना चाहिए।

चाणक्य नीति। अगर आप भी जीवन में तरक्की चाहते हैं तो आपको आर्चाय चाणक्य की कुछ बातों को जानना बनता है. चाणक्य ने अपने नीति शास्त्र में कहा है कि मनुष्य को अपने जीवन में तरक्की के लिए मुर्गे की कुछ आदतों को अपना लेना चाहिए।

dharm

दरअसल उन्होंने अपने चाणक्य नीति में एक श्लोक के माध्यम से मुर्गे के चार गुणों का वर्णन किया है, जिसे मनुष्य अपने जीवन में अपना ले तो कामयाबी हासिल कर सकता है. आइए जानते हैं इन गुणों के बारे में…

प्रत्युत्थानं च युद्धं च संविभागं च बंधुषु।
स्वयमाक्रम्य भुक्तं च शिक्षेच्चत्वारि कुक्कुटात्।।

इस श्लोक के माध्यम से आचार्य चाणक्य कहते हैं कि मनुष्य को मुर्गे से उसकी चार आदतें जरूर सीखनी चाहिए. वो कहते हैं कि व्यक्ति को मुर्गे की तरह समय पर जागने की आदत होनी चाहिए. मनुष्य सुबह समय पर जाग जाए तो वो पूरा दिन काम कर सकता है और कामयाबी हासिल कर सकता है. साथ ही यह उसके स्वास्थ्य के लिए भी लाभदायक होता है.

मुर्गे के दूसरे गुण की बात करते हुए चाणक्य कहते हैं कि मनुष्य को हमेशा युद्ध के लिए तैयार रहना चाहिए, यानी चौकन्ना रहना चाहिए. कहीं ऐसा न हो कि आपका दुश्मन आप पीछे चाल चल दे और आपको पता ही न चले.

साथ ही चाणक्य कहते हैं कि मनुष्य को मुर्गे की तरह दोस्तों और अपनों को उनके हिस्से की चीज देने की आदत होनी चाहिए. व्यक्ति को मुर्गे के चौथे गुण को आत्मकरना चाहिए और हमेशा मेहनत करके जीवन यापन करना चाहिए. चाणक्य के मुताबिक मुर्गे की इन आदतों को अपनाने से मनुष्य को जीवन में तरक्की पाने में मदद मिलती है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button