धीरे-धीरे मजबूत हो रहे भारत-नेपाल के रिश्ते, टेंशन में चीन

कोविड ​टीकों के उत्पादन में उल्लेखनीय सफलता के लिए भारत को बधाई दी

हिंदुस्तान-नेपाल संयुक्त आयोग की मीटिंग के लिए दिल्ली आये नेपाल के ​​विदेश मंत्री प्रदीप कुमार ग्यावली ने शनिवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की।​ रक्षा मंत्री के साथ बातचीत के दौरान विदेश मंत्री ने नेपाल के साथ ​​द्विपक्षीय संबंधों को गहरा करने की इच्छा जताई। ​इस पर रक्षा मंत्री ने ​भी ​कहा कि नेपाल के ​साथ विशेष संबंधों को और मजबूत करने के लिए हिंदुस्तान तत्पर है। ​

Pradeep Kumar Gyawali, Defense Minister Rajnath Singh

विदेश मंत्री ग्यावली इन दिनों हिंदुस्तान-नेपाल संयुक्त आयोग की छठी मीटिंग के लिए हिंदुस्तान आये हुए हैं। उन्होंने रक्षा मंत्री से मुलाक़ात के दौरान नेपाल के शीर्ष नेतृत्व की ओर से अपनी शुभकामनाएं दीं और द्विपक्षीय संबंधों को गहरा करने की इच्छा व्यक्त की। उन्होंने हिंदुस्तान की ओर से प्रदान की गईं सहायताओं के लिए भी धन्यवाद व्यक्त किया।

राजनाथ सिंह ने इस बात पर जोर दिया कि हिंदुस्तान-नेपाल के लोगों के बीच अद्वितीय संबंध लम्बे समय से जुड़े हुए हैं। रक्षा मंत्री ने नेपाल के शीर्ष नेतृत्व के साथ विशेष संबंध और अपने व्यक्तिगत जुड़ाव के बारे में बताया। दोनों वरिष्ठ नेताओं ने उत्कृष्ट सैन्य सहयोग पर अपनी संतुष्टि व्यक्त की।

रक्षा मंत्री ने कहा कि हिंदुस्तान नेपाल को मानवीय सहायता एवं आपदा राहत (एचएडीआर) प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण प्रदान करने के लिए तैयार है।​ ​​​नेपाल के विदेश मंत्री ने ​कोविशील्ड और कोवैक्सीन के ​​टीकों के उत्पादन में उल्लेखनीय सफलता के लिए हिंदुस्तान को बधाई दी और विश्वास व्यक्त किया कि महामारी जल्द ही दूर हो जाएगी।​ ​​हिंदुस्तान-नेपाल संयुक्त आयोग की शुक्रवार को हुई छठी मीटिंग में ​​विदेश मंत्री ने नेपाल को जल्द टीके उपलब्ध कराने का अनुरोध किया है।​ ​​​रक्षा मंत्री ने कहा कि नेपाल के ​साथ विशेष संबंधों को और मजबूत करने के लिए हिंदुस्तान तत्पर है।

आयोग की छठी मीटिंग विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर और नेपाल के विदेश मंत्री प्रदीप कुमार ग्यावली की सह-अध्यक्षता में शुक्रवार को यहां हुई। दोनों नेताओं ने अपने-अपने देश के प्रतिनिमंडल का नेतृत्व किया। आयोग की मीटिंग में विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला और उनके समकक्ष भरत राज पौडयाल और दोनों देशों के अन्य वरिष्ठ अधिकारी शामिल हुए।

संयुक्त आयोग ने दोनों देशों के बीच बहुमुखी सहयोग के सभी पहलुओं की व्यापक रूप से समीक्षा की और पारंपरिक रूप से करीबी और मैत्रीपूर्ण संबंधों को अधिक मजबूत करने के तरीकों पर विचार किया।​ दोनों पक्ष नेपाल में संयुक्त रूप से सुविधाजनक तारीखों पर संयुक्त आयोग की अगली मीटिंग आयोजित करने पर सहमत हुए​ हैं​। बता दें कि हिंदुस्तान-नेपाल संयुक्त आयोग की स्थापना जून, 1987 में हुई थी।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button