प्रदेश में बारिश से बिगड़ते हालात पर कमलनाथ ने जताई चिंता, CM शिवराज से की वार्ता

कमलनाथ ने रविवार दोपहर ट्वीट कर कहा कि ‘प्रदेश में अतिवर्षा का दौर जारी है। प्रदेश के 12 से अधिक जिले व 400 से अधिक गाँव बाढ़ की चपेट में है। नदियाँ उफान पर है।

भोपाल।।  मध्य प्रदेश में बारिश के चलते जनजीवन बुुरी तरह से प्रभावित हुआ है। राजधानी भोपाल समेत समूचा प्रदेश बाढ़ की चपेट में है। प्रभावित क्षेत्रों में सेना की मदद से राहत के प्रयास किए जा रहे हैं। वहीं कई जगहों पर सेना के हेलीकॉप्टर की मदद से रेस्क्यू ऑपरेशन के माध्यम से बाढ़ में फंसे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है। CM शिवराज खुद राहत कार्यों पर नजर रखे हुए हैं और शासन प्रशासन को उचित दिशा निर्देश दे रहे हैं। इस बीच मप्र के पूर्व और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने CM शिवराज को फोन कर प्रदेश में बनी बाढ़ की स्थिति पर चिंता जताई है।

कमलनाथ ने रविवार दोपहर ट्वीट कर कहा कि ‘प्रदेश में अतिवर्षा का दौर जारी है। प्रदेश के 12 से अधिक जिले व 400 से अधिक गाँव बाढ़ की चपेट में है। नदियाँ उफान पर है। बाढ़ ने प्रदेश के कई हिस्सों को प्रभावित किया है। लोगों का भारी नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा कि मैंने प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह से इस पर चर्चा कर चिंता व्यक्त की है।

मैंने उनसे निवेदन किया है कि प्रभावित इलाकों में आपदा, राहत व बचाव के कार्य में तेजी लायी जाए। डूब प्रभावित व निचले बसे इलाक़ों में में विशेष ध्यान दिया जाए, जिससे कोई जनहानि ना हो। बाढ़ में फँसे लोगों को लोगों को तेजी से निकाला जाए। प्रभावित लोगों के रहने, खाने-पीने की समुचित व्यवस्था की जाए।

अपने ट्वीट में उन्होंने कहा कि पूरा प्रदेश, हम सभी, संकट की इस घड़ी में प्रभावित लोगों के साथ खड़े हैं। जिन इलाक़ों में अभी भी खतरा बना हुआ है, वहाँ विशेष चौकसी बरती जाए। पानी वाले पर्यटन स्थलों पर आवाजाही पर रोक लगायी जाए। वहाँ भी सुरक्षा के समुचित इंतज़ाम किये जाए।

कमलनाथ ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं से प्रभावित ईलाकों में मदद की अपील करते हुए कहा कि मैं प्रदेश भर के समस्त कांग्रेसजनों से भी अपील करता हूँ कि संकट की इस घड़ी में वे प्रभावित इलाक़ों में मुस्तैदी से जुट जाए। प्रशासन की टीम के साथ मिलकर राहत व बचाव कार्यों में मदद करें। प्रभावित लोगों के रहने, खाने- पीने की मदद करें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button