बेइज्जती होने के बाद नरम पड़े Kanagana Ranaut के तेवर, जानें क्या है मामला

सोशल मीडिया पर Kanagana Ranaut को कड़ी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा।

नई दिल्ली॥ बीते दिनों कंगना रनौत (Kanagana Ranaut) किसान आंदोलन को लेकर किये गए ट्वीट के कारण बुरी तरह ट्रोल हो गई। सोशल मीडिया पर कंगना को कड़ी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा। कंगना ने भी आलोचकों को कड़ी प्रतिक्रिया दी, लेकिन अब लगता है उनके तेवर कुछ नरम हो रहे हैं।

actress kangana ranout

दरअसल सोशल मीडिया पर आलोचनाओं का सामना करने के बाद कंगना (Kanagana Ranaut) ने देर रात किसानों का समर्थन करते हुए एक के बाद एक तीन ट्वीट किये। कंगना ने अपने पहले ट्वीट में लिखा- ‘मैं किसानों के साथ हूं। पिछले साल मैंने एग्रोफॉरेस्ट्री को बढ़ावा देने के लिए कार्यक्रम किए और दान भी दिया। मैं किसानों के शोषण और उनकी समस्याओं के लिए हमेशा मुखर रही हूं। मैं उनके बारे में काफी चिंता करती हूं और इस कारण मैंने इस सेक्टर में बदलाव के लिए प्रार्थना की जो आखिरकार इन बिलों के रूप में सुनी गई।’

इसके बाद एक्ट्रेस (Kanagana Ranaut) ने इसी ट्वीट को और आगे बढ़ाते हुए ट्वीट किया–”ये बिल कई मायनों में किसानों का जीवन बदलने वाले हैं। मैं चिंता और अफवाहों के प्रभाव को समझती हूं लेकिन मुझे विश्वास है कि सरकार सारे संदेहों को दूर करेगी। कृपया धैर्य रखें। मैं किसानों के साथ हूं और पंजाब के लोग मेरे दिल में एक खास जगह रखते हैं।’

अपने अगले ट्वीट में कंगना (Kanagana Ranaut) ने लिखा-‘मैं देश के किसानों से अपील करती हूं कि किसी भी वामपंथी/खालिस्तानी/टुकड़े गैंग को अपनी प्रोटेस्ट को हाईजैक ना करने दें। ताजा आ रही रिपोर्ट्स के मुताबिक अधिकारियों के साथ किसानों की बात का नतीजा आ रहा है। मैं सभी को ऑल दी बेस्ट कहती हूं। आशा करती हूं कि देश में शांति और विश्वास की जीत होगी। जय हिंद।’

आपको बता दें कि कंगना रनौत (Kanagana Ranaut) ने हाल ही में एक ट्वीट किया था, जिसमें उन्होंने किसान आंदोलन में शामिल हुई बुजुर्ग महिला को सीएए प्रोटेस्ट की बिलकिस बानो बताया था। जिसके बाद सोशल मीडिया पर कंगना का यह ट्वीट सोशल मीडिया पर वायरल हो गया और कंगना को आलोचकों का सामना करना पड़ा। हालांकि बाद में कंगना ने इस ट्वीट को डिलीट भी कर दिया था।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button