Monsoon Session Of Parliament: दोनों सदनों में हुआ जबरदस्त हंगामा, राजसभा में छीनकर फाड़ा गया IT मंत्री का कागज

बीजेपी के राज्यसभा सांसद स्वपन दासगुप्ता ने कहा कि सदन में जब केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव बोल रहे थे तो कुछ विपक्षी सांसदों ने उनके हाथों से पेपर छीनकर फाड़ दिया।

नई दिल्ली।। संसद (Monsoon Session Of Parliament) के दोनों सदनों में जबरदस्त हंगामा हुआ। राज्यसभा में तो हंगामा और भी ज्यादा रहा। इसी वजह से राज्यसभा की कार्यवाही कल तक के लिए स्थगित करनी पड़ी। दरअसल, जैसे ही केंद्रीय आईटी मंत्री अश्विनी वैष्णव ने पेगासस मामले में बोलना शुरू किया विपक्षी सांसदों ने जासूसी बंद करो के नारे लगाने शुरू कर दिए। राज्यसभा में हंगामा तब बढ़ गया जब पेगासस मामले पर अश्विनी वैष्णव बयान दे रहे थे उसी समय विपक्षी सांसदों ने आईटी मंत्री के हाथों से कागज छीन लिया और उसे फाड़कर पीठासीन अध्यक्ष की ओर फेंका।

Monsoon Session Of Parliament

इसके बाद तृणमूल कांग्रेस के सांसद शांतनु सेन और केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी के बीच तीखी नोकझोंक हुई। बीजेपी के राज्यसभा सांसद स्वपन दासगुप्ता ने कहा कि सदन में जब केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव बोल रहे थे तो कुछ विपक्षी सांसदों ने उनके हाथों से पेपर छीनकर फाड़ दिया। स्वपन दासगुप्ता ने कहा कि विशेष रूप से टीएमसी के सांसदों ने ऐसा किया है। यह पूरी तरह से अनुचित व्यवहार है। दूसरी ओर तृणमूल सांसद सुखेंदु शेखर राय ने अश्विनी वैष्णव उठाए जा रहे सवालों से बचते नजर आ रहे हैं। (Monsoon Session Of Parliament)

दो बार के स्थगन के बाद दोपहर दो बजे जैसे ही सदन की कार्यवाही आरंभ हुई, उपसभापति हरिवंश ने बयान देने के लिए वैष्णव का नाम पुकारा। इसी समय, तृणमूल कांग्रेस और कुछ विपक्षी दल के सदस्य आसन के समीप आ गए। उन्होंने नारेबाजी आरंभ कर दी और संभवत: मंत्री के बयान की प्रति फाड़ कर उसके टुकड़े हवा में लहरा दिए। (Monsoon Session Of Parliament)

केंद्रीय मंत्री वैष्णव हंगामे और शोरगुल के कारण अपना बयान पुरा नहीं पढ़ सके। लिहाजा उन्होंने इसे सदन के पटल पर रख दिया। उपसभापति हरिवंश ने हंगामा कर रहे सदस्यों से असंसदीय व्यवहार ना करने का अनुरोध किया लेकिन जब उनकी एक ना सुनी गई तो उन्होंने सदन की कार्यवाही दिन भर के लिए स्थगित कर दी। (Monsoon Session Of Parliament)

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button