घूसखोरी में भारत नंबर-1 पर, भ्रष्‍टाचार के ये आंकड़े देख शर्म से मुंह छिपा लेंगे

रिपोर्ट कहती है कि रिश्‍वत देने वाले करीब आधे लोगों से घूस मांगी गई थी। वहीं, निजी कनेक्‍शंस का इस्‍तेमाल करने वालों में से 32% ने कहा कि अगर वे ऐसा नहीं करते तो उनका काम नहीं होता।

नई दिल्‍ली। घूसखोरी में भारत नंबर-1 पर पहुंच गया है। देश में घूसखोरी की दर 39% है। भ्रष्टाचार पर काम करने वाली संस्था ‘ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल’ के एक सर्वे के मुताबिक, घूसखोरी के मामले में भारत के लोग एशिया में नंबर 1 पर हैं। हालांकि केवल 47% लोग मानते हैं कि पिछले 12 महीनों में भ्रष्‍टाचार बढ़ा है। 63 फीसदी लोगों की राय है कि सरकार भ्रष्‍टाचार से निपटने में अच्‍छा काम कर रही है। सर्वे के अनुसार, भारत में सरकारी सुविधाओं के लिए 46% लोग निजी कनेक्‍शंस का सहारा लेते हैं। रिपोर्ट कहती है कि रिश्‍वत देने वाले करीब आधे लोगों से घूस मांगी गई थी। वहीं, निजी कनेक्‍शंस का इस्‍तेमाल करने वालों में से 32% ने कहा कि अगर वे ऐसा नहीं करते तो उनका काम नहीं होता।

Bribery

भारत के पड़ोसी देशों का क्‍या है हाल?

भारत के बाद सबसे ज्‍यादा घूसखोरी कम्‍बोडिया में है जहां 37 फीसदी लोग रिश्‍वत देते हैं। 30% के साथ इंडोनेशिया तीसरे नंबर पर है। मालदीव और जापान में घूसखोरी की दर पूरे एशिया में सबसे कम हैं जहां केवल 2% लोग ही ऐसा करते हैं। दक्षिण कोरिया और जापान की स्थिति भी बेहतर है। ट्रांसपेरेंसी इंटरनैशनल के सर्वे में पाकिस्‍तान को शामिल नहीं किया गया। बांग्‍लादेश में घूसखोरी की दर भारत के मुकाबले काफी कम (24%) है जबकि श्रीलंका में यह 16% है।

सरकारी भ्रष्‍टाचार से सबसे ज्‍यादा परेशान हैं लोग

‘ग्‍लोबल करप्‍शन बैरोमीटर – एशिया’ के नाम से प्रकाशित अपनी सर्वे रिपोर्ट के लिए ट्रांसपेरेंसी इंटरनैशनल ने 17 देशों के 20,000 लोगों से सवाल पूछे। यह सर्वे जून और सितंबर के बीच हुआ। उनसे पिछले 12 महीनों में भ्रष्‍टाचार के अनुभवों की जानकारी मांगी गई। सर्वे में छह तरह की सरकारी सेवाएं शामिल गई थीं। रिपोर्ट के मुताबिक, हर चार में से तीन लोग मानते हैं कि उनके देश में सरकारी भ्रष्‍टाचार सबसे बड़ी समस्‍या है। हर तीन में से एक व्‍यक्ति अपने सांसदों को सबसे भ्रष्‍ट व्‍यक्ति के रूप में देखता है। मलेशिया, इंडोनेशिया और थाइलैंड में सेक्‍सुअल एक्‍सटॉर्शन के मुद्दे को भी रिपोर्ट में प्रमुखता से उठाया गया है।

भ्रष्‍टाचार का खुलासा करने से लगता है डर

भारत में जिन लोगों का सर्वे हुआ, उनमें से पुलिस के संपर्क में आए 42% लोगों ने घूस दी। पहचान पत्र जैसी सरकारी दस्‍तावेज हासिल करने के लिए भी 41% लोगों को घूस देनी पड़ी। निजी कनेक्‍शन का इस्‍तेमाल कर काम निकलवाने के मामले सबसे ज्‍यादा पुलिस (39%), आईडी हासिल करने (42%) और अदालती मामलों (38%) से जुड़े रहे। रिपोर्ट में एक चिंताजनक आंकड़ा यह भी दिया गया है कि भ्रष्‍टाचार की जानकारी देना महत्‍वपूर्ण है लेकिन 63% लोग उसके अंजाम से डरते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button