किसान आंदोलन से बदले यूपी के सियासी हालात, बढ़ी सियासी सरगर्मियां

लखनऊ। पश्चिमी उत्तर प्रदेश नए कृषि कानूनों के खिलाफ शुरू हुए किसान आंदोलन का केंद्र बन चुका है। किसान नेता राकेश टिकैत के समर्थन में गाजीपुर बॉर्डर पर लगातार लोगों का हुजूम उमड़ रहा है। हिन्दू-मुस्लिम की खाई पटती नजर आ रही है। पश्चिमी यूपी में महापंचायतों का दौर भी चल रहा है, जिसमे भाजपा नेताओं के सामाजिक बहिष्कार की घोषणाएं हो रही हैं। इन सबके बीच केंद्र व प्रदेश सरकार की कारपोरेट परस्त नीतियों और किसान कानूनों को लेकर अड़ियल रुख के चलते भाजपा के प्रति आम जनता का आक्रोश बढ़ता जा रहा है।

किसान आंदोलन से उत्पन्न इन्ही हालातों के बीच बीच कांग्रेस और राष्ट्रीय लोकदल अपनी खोई हुई सियासी जमीन को पुनः प्राप्त करने के लिए तानाबाना बुन रही हैं। किसानो और अन्य मुद्दों को लेकर सपा भी सक्रिय हो चुकी है। बसपा अभी परिदृश्य से बाहर है।

आम जनता के आक्रोश को देखते हुए भाजपा भी पश्चिमी यूपी में सक्रिय हो गई है। हालांकि भाजपा नेताओं को गावों में विरोध का सामना करना पड़ रहा है। केंद्र व प्रदेश सरकार की कारपोरेट परस्त नीतियों और लगातार खत्म होते रोजगार के अवसरों ने युवा तबके में भी भाजपा के खिलाफ गुस्सा है। शायद भाजपा को भी अब अपने खिलाफ जनाक्रोश का अहसास होने लगा है।

बदले हुए माहौल में विपक्षी पार्टियों ने सूबे में सरगर्मियां बढ़ा दी हैं। राष्ट्रीय लोकदल ने किसान महापंचायतों के बीच किसानों को एकजुट करने के लिए ‘चलो गांव की ओर’ और ‘मेरा संगठन आपके द्वार’ कार्यक्रम शुरू किया हैं। कार्यक्रम के दौरान पार्टी कार्यकर्ता गांव-गांव जाकर पार्टी मुखिया चौधरी अजित सिंह द्वारा किसानों के हित में जारी किए जाने वाला पत्र किसानों तक पहुंचाएंगे। कार्यक्रम का शुभारंभ छोटे चौधरी के जन्मदिन अर्थात 12 फरवरी से शुरू होगा।

रालोद नेताओं के मुताबिक चौधरी अजित सिंह अपने जन्मदिन पर किसानों के नाम खुद का लिखा एक पत्र जारी करेंगे। इस पत्र के जरिये पार्टी कार्यकर्ता किसानों को जागरूक करेंगे। ‘चलो गांव की ओर मेरा संगठन आपके द्वार, कार्यक्रम 12 फरवरी से 18 फरवरी तक चलेगा। पार्टी जिलाध्यक्षों और पदाधिकारियों को कार्य़क्रम की कामयाबी के लिए जिम्मेदारी दी गई हैं।

कांग्रेस 12 फरवरी से यूपी की हर तहसील में जय जवान जय किसान अभियान शुरू करेगी। हर तहसील के एक गांव में किसानों की चौपाल लगेगी, जिसमे प्रदेश अध्य़क्ष, प्रदेश पदाधिकारी, पूर्व सांसद आदि इसमें शिरकत करेंगे। खुद प्रदेश प्रभारी राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी भी इस दौरान कार्यक्रम करेंगी। प्रियंका गांधी सहारपुर में बिजनौर व सहारनपुर में चौपाल कार्यक्रम में शामिल होंगी। इस दौरान प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भी प्रियंका गांधी के साथ रहेंगे। कंग्रेस नेता राहुल गांधी भी किसानों के मुद्दे पर सरकार के खिलाफ सक्रिय हैं।

इसी तरह समाजवादी पार्टी ने सरोजनी नायडू के जन्मदिन पर 13 फरवरी को हर जिले में प्रदर्शन करने की घोषणा की है। हर जिले में महिलाएं डीएम ऑफिस के सामने प्रदर्शन करेंगी। इस दौरान किसानों के साथ महिलाओं से जुड़े 14 मुद्दों को उठाया जाएगा। सपा प्रवक्ता के मुताबिक़ प्रदर्शन में महिला सुरक्षा, महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराध, महंगाई, घरेलू हिंसा, नौकरी मे भेदभाव, राजनीतिक उपेक्षा और पेंशन आदि मुद्दे शामिल है।

कारपोरेट परस्त नीतियों के चलते लगातार अलोकप्रिय होती जा रही भाजपा भी चिंतित नजर आ रही है। केंद्र व प्रदेश सरकार के खिलाफ बन चुके माहौल के बीच भजपा 12 से पश्चिमी यूपी यूपी के हर जिले में संगोष्ठी करेगी। इन संगोष्ठियों में मंत्री और वरिष्ठ पार्टी नेता बजट में किसानों को फायदे गिनाएंगे। इस सिलसिले में 12 फरवरी को कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही सहारनपुर रामपुर जिले में संगोष्ठी कर किसानों को बजट के फायदे के बारे में बताएंगे। इसी तरह 13 फरवरी को प्रदेश प्रभारी पूर्व केंद्रीय मंत्री राधेमोहन सिंह गौतमबुद्धनगर और सूबे के मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह गाजियाबाद में संगोष्ठी करेंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button