उत्तराखंड बजट सत्र की तैया​रियां पूरी, विपक्ष ने प्रहार के लिए सरकार ने कसी कमर

चार मार्च को CM त्रिवेंद्र सिंह रावत बजट पेश करेंगे। बजट सत्र में हिस्सा लेने वाले सभी मंत्रियों और विधायकों की कोरोना आरटीपीसीआर जांच अनिवार्य है।

देहरादून।। उत्तराखंड विधानसभा का बजट सत्र कोराना के साये में 1 मार्च को ग्रीष्मकालीन राजधानी गैरसैंण (भराड़ीसैंण) में शुरू होगा। यहां के विधानसभा भवन में सारी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। राज्यपाल, मुख्यमंत्री, मंत्री और विधायक रविवार शाम तक गैरसैंण पहुंच जाएंगे। वन मंत्री मंत्री हरक सिंह रावत सिंह और राज्य मंत्री धन सिंह रावत अधिकारियों के साथ गैरसैंण पहुंच गए हैं। कांग्रेस गैरसैंण को स्थायी राजधानी बनाने, महंगाई आदि मुद्दों पर सरकार पर कड़ा प्रहार करने की तैयारी में है। सत्र का समापन 10 मार्च को होगा।

चार मार्च को CM त्रिवेंद्र सिंह रावत बजट पेश करेंगे। बजट सत्र में हिस्सा लेने वाले सभी मंत्रियों और विधायकों की कोरोना आरटीपीसीआर जांच अनिवार्य है। अधिकारियों और कर्मचारियों को कोविड मानकों को पालन करना होगा। सभा मंडप में दो गज की दूरी के हिसाब से बैठने की व्यवस्था की गई है।

दर्शक और अधिकारी दीर्घा में किसी व्यक्ति को प्रवेश नहीं दिया जाएगा। विधायकों के साथ आने वाले कर्मियों का विधानसभा भवन में प्रवेश निषिद्ध किया गया है। पूर्व विधायकों से विधानसभा परिसर में आने से बचने का अनुरोध किया गया है। गैर सरकारी व्यक्तियों को परिसर में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी।

त्रिवेन्द्र सरकार के कार्यकाल के पांचवें और आखिरी बजट से राज्यवासियों को अधिक उम्मीदें है। सत्तारूढ़ दल के लिहाज से इस बजट को चुनावी साल माना जा रहा है। मुख्यमंत्री का कहना है कि इस बार बजट में गांव-शहर से लेकर औद्योगिक क्षेत्र का स्पर्श और समावेश दिखेगा। सरकार की प्राथमिकता राज्य का समग्र विकास और हर वर्ग को राहत देना है। बजट को अंतिम रूप देने से पहले सभी वर्गों से सुझाव लिए गए थे। जनाकांक्षाओं के अनुसार बजट को ढालने का प्रयास किया गया है। सभी लोग आश्वस्त रहें।

विधानसभा सत्र में कामकाज का खाका रविवार को कार्यमंत्रणा समिति की बैठक में तय किया जाएगा। सूत्रों के अनुसार पहले शुरुआती तीन दिनों का कार्यक्रम तय किया जाएगा। इसके बाद समय-समय पर कार्यमंत्रणा समिति कार्यक्रम निर्धारित करेगी। प्रदेश सरकार भी विपक्ष के हमलों का जवाब देने के लिए तैयार है।

रविवार शाम मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में विधानमंडल दल की बैठक में सत्तापक्ष की रणनीति बनेगी। सभी विधायकों के रविवार शाम तक गैरसैंण पहुंचने की संभावना है। भराड़ीसैंण में शाम पांच बजे विधानमंडल दल की बैठक होनी है। बैठक में फ्लोर मैनेजमेंट की रूपरेखा के साथ ही सदन में सरकार की ओर से उठाए जाने वाले विषयों पर चर्चा होगी।

विधानसभा सत्र के हंगामेदार रहने के आसार हैं। कांग्रेस कोरोना, अर्थव्यवस्था, विकास और भ्रष्टाचार से जुड़े मुद्दों को उठाएगी। मुद्दों को धार देने के लिए भराड़ीसैंण में कांग्रेस विधायक मंडल दल की बैठक रविवार शाम को होगी। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह का कहना है कि खेती – किसानी, कृषि कानून, महंगाई, कोरोना, बेरोजगारी, चमोली आपदा से जुड़े मुद्दे अहम हैं। स्थानीय मुद्दे भी हैं।

इन्हें पार्टी प्रमुखता से उठाएगी। चमोली आपदा से संबंधित मुद्दों पर सरकार से जवाब मांगा जाएगा। कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह, नेता प्रतिपक्ष डॉ. इंदिरा हृदयेश भी रविवार को गैरसैंण पहुंच जाएंगे। अगर कुछ सदस्य नहीं पहुंचें तो सोमवार को बजट अभिभाषण के बाद विधायक दल की बैठक होगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button