राष्ट्रपति से मुलाकात के बाद बोले राहुल, वापस लेने होंगे कृषि कानून

प्रेसिडेंट से मुलाकात के बाद राहुल गांधी ने कहा कि ‘हम तीन लोग प्रेसिडेंट के पास करोड़ों हस्ताक्षर लेकर गए।

कृषि कानूनों के विरूद्ध जारी किसान आंदोलन को देखते हुए कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल ने गुरुवार को प्रेसिडेंट रामनाथ कोविंद से मुलाकात की। अधीर रंजन चौधरी और गुलाब नबी आजाद के साथ प्रेसिडेंट भवन पहुंचे राहुल गांधी ने नए कृषि कानूनों के विरूद्ध प्रेसिडेंट कोविंद को दो करोड़ हस्ताक्षर वाला ज्ञापन सौंपा और उनसे इस मामले में हस्तक्षेप करने की मांग की है।

rahul gandhi meet with president kovind

प्रेसिडेंट से मुलाकात के बाद राहुल गांधी ने कहा कि ‘हम तीन लोग प्रेसिडेंट के पास करोड़ों हस्ताक्षर लेकर गए। यह देश की आवाज है। कड़के की ठंड में अपने अधिकार के लिए आंदोलन कर रहे किसानों की बात सरकार को सुननी चाहिए।’ उन्होंने बताया कि प्रेसिडेंट से हमने कहा कि ये जो कानून बनाए गए हैं ये किसान विरोधी हैं और इनसे किसानों-मज़दूरों का नुकसान होने वाला है। अगर कानून वापस नहीं हुआ तो सिर्फ आरएसएस और भाजपा को ही नहीं बल्कि देश को भी नुकसान होने जा रहा है।

कांग्रेस सांसद ने कहा कि ‘प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का एक ही लक्ष्य है दो-चार उद्योगपतियों/पूंजीपतियों दोस्तों को फायदा पहुंचाना। जिसे किसान और मजदूर समझ गए हैं। ऐसे में जो लोग भी मोदी जी के विरूद्ध खड़े होते हैं, उनके विरूद्ध वे कुछ न कुछ गलत बोलते हैं। किसान को आतंकवादी कहते हैं, कल को मोहन भागवत भी उनके विरूद्ध खड़े हो गए तो उन्हें भी आतंकवादी बोल देंगे।

राहुल ने प्रधानमंत्री पर निशाना साधते हुए कहा कि नरेन्द्र मोदी जी को यह नहीं सोचना चाहिए कि किसान व मजदूर घर चले जाएंगे, वे नहीं जाएंगे। उनकी इच्छाशक्ति के सामने कोई शासन शक्ति नहीं टिक सकती। उन्हें संसद को संयुक्त सत्र बुलाकर कृषि कानूनों को वापस लेना चाहिए। इन कानूनों को वापस लेना ही पड़ेगा।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button