रामायण (Ramayan Katha) विश्‍वमहाकोश तैयार, जानकी नवमी पर CM योगी करेंगे विमोचन

ई बुक के रूप में भी लांच होगा रामायण (Ramayan Katha) विश्‍वमहाकोश, अयोध्‍या शोध संस्‍थान ने तैयार किया संस्‍करण

LUCKNOW। रामायण (Ramayan Katha) विश्‍व महाकोश का प्रथम संस्‍करण तैयार है। मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ जानकी नवमी के अवसर पर शनिवार को इसका विमोचन करेंगे। गोमती नगर के संगीत नाटक अकादमी के संत गाडगे प्रेक्षा गृह में आयोजित विमोचन कार्यक्रम में विदेश मंत्रालय के अपर सचिव डा. अखिलेख मिश्र समेत देश और दुनिया के कई विद्वान भी मौजूद रहेंगे। इस मौके पर रामायण विश्‍वमहाकोश ई बुक के रूप में भी लांच किया जाएगा। रामायण विश्‍वमहाकोश के प्रथम संस्‍करण को अयोध्‍या शोध संस्‍थान द्वारा तैयार किया गया है।

उल्लेखनीय है कि उत्‍तर प्रदेश संस्‍कृति विभाग विदेश मंत्रालय के सहयोग से दुनिया के 205 देशों से रामायण (Ramayan Katha) की मूर्त व अमूर्त विरासत संजोकर रामायण विश्‍वमहाकोश परियोजना को साकार कर रहा है। इसके लिए विभाग की ओर से रामायण विश्‍वमहाकोश कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है जिसमें पश्चिम बंगाल, असम, केरल, कर्नाटक, छत्तीसगढ़, त्रिपुरा, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और दिल्ली समेत देश के कई राज्‍यों से 70 विद्वान शामिल होंगे।

जानकारी के मुताबिक़ रामायण (Ramayan Katha) विश्‍वमहाकोश को 200 खंडों में प्रकाशित करने की योजना है। शनिवार को इसके पहले संस्‍करण का अंग्रेजी भाषा में विमोचन किया जाएगा। एक महीने बाद हिन्‍दी और तमिल भाषा में प्रथम संस्‍करण को प्रकाशित किया जाएगा। इसके प्रथम संस्करण का डिजाइन भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, खड़गपुर ने तैयार किया है ।

इस मौके पर कार्यशाला में रामायण विश्वमहाकोश के चित्रों की प्रदर्शनी भी लगायी जाएगी। इसमें प्रमुख चित्रों को संजोया गया है । इस अवसर पर ‘रामायण की नारी’ पर आधारित सीनियर एवं जूनियर वर्ग की छात्राओं द्वारा चित्र प्रदर्शनी भी लगाई ।

वैश्विक स्तर पर भारतीय उपमहाद्वीप के अलावा ईरान ईराक, यूरोप समेत दुनिया भर के देशों में लगभग 5000 वर्ष पूर्व से रामायण की मूर्त विरासत के साक्ष्‍य मिलते हैं। विद्वानों का दावा है कि गांधार क्षेत्र में 2500 ईपू ‘राम तख्त’ प्राप्त होते हैं और गान्धार के अनेक गाँवों के नाम राम और सीता के नाम पर हैं । पाकिस्तान का पूरा गांधार क्षेत्र रामायण संस्कृति से समृद्ध है ।

UP- होली से पहले 13-27 मार्च तक चलाया जाएगा फोकस टेस्टिंग अभियान, जानें क्या है ये

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button