Rakesh Tikait के आंसुओं का असर, किसान आंदोलन में आई जान, सहमी सरकार

Rakesh Tikait: किसानों के साथ विपक्षी पार्टियां भी किसानों के समर्थन में आ गई। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने गुरुवार शाम ट्विटर पर कहा कि यह साइड चुनने का साइड चुनने का समय है। मेरा फैसला साफ है।

नई दिल्ली / लखनऊ। भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) समेत अनेक किसान नेताओं पर देशद्रोह समेत कई संगीन धाराओं में केस दर्ज कराये गए। गणतंत्र दिवस पर किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान लाल किले पर धार्मिक झंडा फहराने की घटना के बाद किसानों का आंदोलन कमजोर दिखाई देने लगा था। गुरुवार तक चार किसान संगठनों ने अपना धरना खत्म कर दिया था। लग रहा था कि आधी रात तक गाजीपुर बॉर्डर भी खाली हो जाएगा। (Rakesh Tikait)Rakesh Tikait

गाजीपुर बॉर्डर पर भारी तादाद में पुलिस और फोर्स की मौजूदगी से किसान भी आशंकित थे। गाजियाबाद प्रशासन ने किसानों को गुरुवार आधी रात तक यूपी गेट खाली करने का अल्टीमेटम भी दिया था। इससे पहले भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) समेत अनेक किसान नेताओं पर देशद्रोह समेत कई संगीन धाराओं में केस दर्ज कराये गए।

Siyasat: किसान आंदोलन पर सरगर्मी तेज, टिकैत का दावा कई भाजपा नेता देंगे इस्तीफा

 

तमाम शंकाओं- आशंकाओं के बीच शाम को किसान नेता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने किसानों को संबोधित किया और कहा कि कृषि कानूनों के रद्द होने तक हम यहां से हटने वाले नहीं हैं। हम सरेंडर भी नहीं करेंगे। इसके बाद राकेश टिकैत मीडिया से मुखातिब हुए और भावुक हो गए। रोते हुए उन्होंने कहा कि यदि तीनों कृषि कानून वापस नहीं हुए तो राकेश टिकैत आत्महत्या करेगा। टिकैत ने कहा कि किसानों को मारने की कोशिश की जा रही है। बीजेपी के विधायक यहां 300 लोगों के साथ लाठी डंडे लेकर आए हैं। राकेश टिकैत ने कहा अब मैं अब पानी नहीं पीऊंगा। मैं केवल वही पानी पीऊंगा जो गांवों से किसानों द्वारा लाया गया है।

Kangana Ranaut ने अपनी नई फिल्म का किया ऐलान, निभाएंगी इस प्रधानमंत्री का किरदार

तय हुआ कि मुजफ्फरनगर में अगले दिन दोपहर में महापंचायत होगी। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के तमाम जिलों से हजारों किसान रात में ही गाजीपुर बॉर्डर की ओर कूच कर गए। इसी तरह हरियाणा के गावों में भी रात में पंचायतें हुई। कई मार्गों को किसानों ने रात में ही अवरुद्ध कर दिया और बड़ी तादाद में किसान गाजीपुर बॉर्डर पहुंचने लगे। (Rakesh Tikait)

Kangana Ranaut ने अपनी नई फिल्म का किया ऐलान, निभाएंगी इस प्रधानमंत्री का किरदार

किसानों के साथ विपक्षी पार्टियां भी किसानों के समर्थन में आ गई। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने गुरुवार शाम ट्विटर पर कहा कि यह साइड चुनने का साइड चुनने का समय है। मेरा फैसला साफ है। मैं लोकतंत्र के साथ हूं, मैं किसानों और उनके शांतिपूर्ण आंदोलन के साथ हूं। राष्ट्रीय लोकदल के मुखिया चौधरी अजित सिंह ने रात में ही राकेश टिकैत और भाकियू अध्यक्ष चौधरी नरेश टिकैत से मोबाईल पर बात की। रात में जयंत चौधरी ने ट्वीट करके कहा कि चिंता मत करो, किसान के लिए जीवन मरण का प्रश्न है। सबको एक होना है, साथ रहना है। यह संदेश चौधरी साहब ने दिया है। इसी तरह सपा ने भी खुलकर किसानों का समर्थन किया है। (Rakesh Tikait)

India-England Test Series के लिए मैच अधिकारियों की घोषणा, जानें कौन-कौन हुआ शामिल

इस तरह अचानक बदले माहौल से किसान आंदोलन में एक बार फिर जान आ गई और राकेश टिकैत किसानों के सबसे बड़े नेता के तौर पर सामने आये हैं। गाजीपुर बॉर्डर पर आधी रात से ही बड़ी तादाद में किसानों का आना जारी है। गाजीपुर बॉर्डर अब पुरे किसान आंदोलन का केंद्र बन गया है। किसानों की एकजुटता और आज की महापंचायत से सरकार और शासन-प्रशासन को अपने कदम वापस लेने पड़े और पुलिस को पीछे हटना पड़ा। (Rakesh Tikait)

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button