UP: संसद आजम खां पर योगी सरकार की कार्रवाई से बौखलायी सपा, सरकार से पूछा ये सवाल!

पार्टी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से सोमवार को ट्वीट किया गया कि राजनीतिक द्वेष में अंधी सरकार सपा सांसद आजम खां पर शुरू से ही बदले की भावना के तहत प्रायोजित कार्रवाई कर रही है

लखनऊ।। समाजवादी पार्टी के सांसद आजम खां के अवैध निर्माण पर योगी सरकार की कार्रवाई जारी है। पार्टी शुरुआत से ही इसे जहां राजनीतिक द्वेष के तहत उठाया कदम बता रही है। वहीं अब उसने मुख्यमंत्री से सवाल किया है कि प्रदेश में अन्य जनपदों में सत्ताधीशों के अवैध निर्माण को कब गिराया जाएगा।

पार्टी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से सोमवार को ट्वीट किया गया कि राजनीतिक द्वेष में अंधी सरकार सपा सांसद आजम खां पर शुरू से ही बदले की भावना के तहत प्रायोजित कार्रवाई कर रही है, तथाकथित अवैध निर्माण गिराने की कार्रवाई भी इसी का हिस्सा है। मुख्यमंत्री बताएं कि गोरखपुर, वाराणसी, प्रयागराज समेत यूपी भर में सत्ताधीशों का अवैध निर्माण कब गिरेगा?

वहीं पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने आज ट्वीट किया कि कभी-कभी यूं भी रखी जाती है ‘इंसाफ’ की आबरू, हिफाजत में रख लिये जाएं कुछ फैसलों के फैसले। सपा सांसद आजम खान, बेटे अब्दुल्ला आजम और पत्नी तंजीम फातिमा सीतापुर की जेल में बंद हैं। वहीं उनके अवैध साम्राज्य के खिलाफ कानून का शिकंजा लगातार कसता जा रहा है।

रामपुर विकास प्राधिकरण ने आज के हमसफर रिसॉर्ट को पन्द्रह दिन में ध्वस्त करने का नोटिस आजम खान की पत्नी तंजीम फातिमा को सीतापुर जेल में भेज दिया है, ताकि वह इस रिसॉर्ट को खुद ध्वस्त करा दें, अन्यथा फिर रामपुर विकास प्राधिकरण इसको तोड़ने की कार्रवाई करेगा और खर्चा भी वसूलेगा।

रामपुर विकास प्राधिकरण के मुताबिक रामपुर के पसयापुर शुमाली में आजम खान का आलीशान ‘हमसफर रिसॉर्ट’ बिना नक्शा पास कराए बनाया गया है, जो 30 मीटर चौड़ाई की ग्रीन बैल्ट में बना हुआ है। रिसॉर्ट का जो नक्शा आजम की पत्नी ने प्रस्तुत किया है, वह जिला पंचायत के द्वारा पास किया गया था जो गैरकानूनी तरीके से पास किया गया था, जिसे निरस्त कर दिया गया है। अब इस निर्माण को अवैध मानते हुए इसके ध्वस्त करने के आदेश दे दिए हैं।

वहीं राजधानी लखनऊ में आजम की बहन निकहत अफलाक के नाम आवंटित आलीशान बंगले को निरस्त करने की कार्रवाई भी शुरू कर दी गई है। निकहत अफलाक के नाम से यह बंगला, लखनऊ के पावर बैंक कॉलोनी में आवंटित है। इसे महज एक हजार रुपये के मासिक किराए पर 13 साल पहले गैरकानूनी तरीके से आवंटित किया गया था।

इसके साथ ही रामपुर पुलिस ने अब आजम खां की बहन निकहत अफलाक और बड़े बेटे अदीब आजम पर भी कानूनी शिकंजा कस दिया है। इन दोनों को जौहर यूनिवर्सिटी की जमीनों से जुड़े 28 मुकदमों में अभियुक्त बना दिया है। जौहर यूनिवर्सिटी के लिए जमीनें कब्जाने के मामले में आजम खां के खिलाफ 30 मुकदमे दर्ज हैं।

इन मामलों में उनकी पत्नी और छोटे बेटे अब्दुल्ला आजम को भी अभियुक्त बनाया जा चुका है। इस समय तीनों जेल में बंद हैं। पुलिस ने अब आजम खां की बहन और बड़े बेटे को अभियुक्त बनाते हुए नोटिस जारी कर दिया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button