UPPolice की ऐसी शर्मनाक हरकत, चीरहरण के बाद महिला की छाती पर…

ताजा मामला कानपुर देहात के भोगनीपुर थाने के गांव दुर्गदास पुर का है, जहां सम्बन्धित चौकी इंचार्ज महेन्द पटेल (UP Police) और चार सिपाहियों ने एक परिवार पर कहर ढहा दिया।

लखनऊ।। हे राम! उत्तर प्रदेश (UP Police) को आखिर क्या हो गया है? ये कौन सी सख्त क़ानून-व्यवस्था है, जिसमे जनता खासतौर से महिलाओं का जीना दूभर हो गया है। कहीं पर चीरहरण हो रहा है तो कहीं पर दिन दहाड़े हत्याएं हो रही हैं। सरकार कहती है कि प्रदेश में क़ानून-व्यवस्था चुस्त-दुरुस्त है। अपराधी या तो जेल में हैं या फिर प्रदेश छोड़कर भाग गए हैं। माफियाओं की संपत्तियां जब्त की जा रही हैं। प्रदेश से भय और भ्रष्टाचार खत्म हो चुका है। चारो तरफ अमन और शान्ति है। हालांकि सरकार के दावों से इतर जमीन पर विपरीत तस्बीरें नजर आती हैं।

kanpur - UP Police

ताजा मामला कानपुर देहात के भोगनीपुर थाने (UPPolice) के गांव दुर्गदास पुर का है, जहां सम्बन्धित चौकी इंचार्ज महेन्द पटेल (UP Police) और चार सिपाहियों ने एक परिवार पर कहर ढहा दिया। बिना महिला कांस्टेबिल के पीडित के घर दविस देने पहुचे चौकी इंचार्ज ने पूरे परिवार की महिलाओ को चौकी इंचार्ज नेे गिरा-गिरा कर मारा। इतना ही नहीं अपनी सास को बचाने आयी बहू आरती को भी चौकी इंचार्ज ने गिरा कर सीने पर चढ गये। बचाने दौड़े शिवम को चौकी इंचार्ज ने पूरे गांव के सामने घसीटते और मारते हुये थाने ले गये।

इस मामले में अहम बात यह है कि पीड़ित पछ के विरूद्ध कोई एनसीआर तक नहीं है। दरअसल, पीड़ित परिवार ने गत 16 जुलाई को सम्बन्धित मामले को लेकर बिल्हौर विधायक भगवती प्रसाद सागर से मिलकर परिवार के साथ कोई अप्रिय घटना होने का अंदेशा जताया था। विधायक ने मामले को संज्ञान लेते हुए आईजी कानपुर जोन (UPPolice) को अवगत करा दिया था। इससे आगबबूला हुए चौकी इंचार्ज ने महिलाओं पर कहर ढा दिया।

उल्लेखनीय है कि जिला पंचायत और ब्लाक प्रमुख चुनाव के दौरान प्रदेश में महिलाओं के साथ हिंसा की कई खबरें आई थी। लखीमपुर में चीरहरण की कोशिशें हुई। इन घटनाओं को अभी चन्द रोज भी नही हुए कि पुलिस ने आपा खो दिया। ये चंद घटनाएं तो सिर्फ बानगी हैं। प्रदेश में इस तरह की घटनाये आम हो चुकी हैं। (UP Police)

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button