उत्तराखंड : इस महापौर ने बताया कैसे होगा विकास, बनाई ऐसी योजना, नेता भी ले सकते हैं सीख

ममगांई ने कहा कि मिशन 2021 के लिए विकास का रोड मैप तैयार है।

ऋषिकेश। नगर निगम महापौर अनीता ममगांई मानती हैं कि  ट्रिपल इंजन सरकार के बूते दो वर्ष में योजनाएं धरातल पर उतरीं। शहर की जनता ने विकास को महसूस भी किया। ममगांई ने कहा कि मिशन 2021 के लिए विकास का रोड मैप तैयार है।
Anita Mamgani
महापौर अनिता ममगांंई ने कहा है कि ऋषिकेश नगर निगम के शुरुआती दो वर्षों का मूल्यांकन उम्मीद जगाने वाला है। निगम के सबसे महत्वपूर्ण दो कामों में कचरा प्रबंधन और पथ प्रकाश प्रमुख है। ममगांंई ने अपने दो वर्षों का रिपोर्ट कार्ड प्रस्तुत किया। उन्होंने कहा कि कचरा प्रबंधन के लिए 50,000 डस्टबिन निशुल्क बांटे गए। हर घर कूड़ा गाड़ी पहुंचाने का लक्ष्य पूरा किया गया । 20 नए कूड़ा वाहन खरीदे गए । सफाई व्यवस्था की मॉनिटरिंग के लिए जियो टैगिंग, जीपीएस और डिजिटल मॉनिटरिंग के लिए बापू ग्राम में कंट्रोल रूम बन रहा है। लाल पानी में नए टंचिंग ग्राउंड की सैद्धांतिक स्वीकृति एवं गोविंद नगर से पिछले 40 साल से कूड़ा हटाने के प्रयास की भी शासन से स्वीकृति मिलना नगर निगम की सबसे बड़ी उपलब्धि है।
उन्होंने कहा कि पथ प्रकाश के अंतर्गत 5000 नई स्ट्रीट लाइटें एवं 330 डबल आर्म डिवाइडर लाइट लगवाई गई हैं।  निगम का तीसरा सबसे महत्वपूर्ण कार्य शहर को खुले में शौच मुक्त करना और पब्लिक टॉयलेट का निर्माण कराना रहा है।  प्रथम चरण में पांच हाईटेक शौचालय बनाए जा रहे हैं।  प्रथम चरण जनवरी में पूरा हो जाएगा। 10 हाईटेक शौचालय बनवाने का लक्ष्य है।
महापौर के मुताबिक वेंडिंग जोन में रेहड़ी और खोखे वाले नियमानुसार  बसाये जा रहे हैं। चौक और घाट के सौंदर्यकरण के लिए इंद्रमणि बडोनी चौक, अंबेडकर चौक, 72 सीढ़ी घाट का सौंदर्यकरण जैसी योजनाओं को धरातल पर उतारा गया। गौरा देवी चौक का जल्द लोकार्पण होगा।  कोरोना काल में विशेष सफाई अभियान और निशुल्क राशन वितरण के लिए शासन ने उन्हें कोरोना वारियर की उपाधि से नवाजा। वह उत्तराखंड की पहली मेयर हैं, जिन्हें यह पुरस्कार मिला।
उन्होंने बताया कि भवन कर में 50 फीसदी की छूट, मेयर हेल्पलाइन के माध्यम से जनता की समस्याओं को सुलझाना, ऋषिकेश के रेलवे स्टेशन का नाम योग नगरी ऋषिकेश रखना निगम की उपलब्धियों में चार चांद लगाने वाला साबित हुआ। एम्स में उत्तराखंड वासियों और ऋषिकेश वासियों के लिए अलग ओपीडी की व्यवस्था कराकर जनता को राहत पहुंचाने की कोशिश की गई।
ममगांई ने कहा कि मिशन 2021 में गंगा की धारा को त्रिवेणी घाट तक लाया जाएगा। संजय झील का जीर्णोद्धार और प्रमुख पार्कों का सौंदर्यकरण कराया जाएगा। लालपानी में 50 करोड़ रुपये की लागत से कूड़ा निस्तारण प्लांट जनवरी से शुरू हो जाएगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button