लखनऊ के KGMU में मिला कोरोना का बहुत ही खतरनाक वैरिएंट, डाक्टरों ने कहा- बचने के लिए करे ये काम

इस लिए इसके संक्रमण से बचाव के लिए सामान्य नियमों का पालन करना जरुरी है। प्रदेश में कप्पा वैरिएंट का पहला मरीज गोरखपुर के BRD मेडिकल कॉलेज में एक मरीज में मिला था।

लखनऊ।। उत्तर प्रदेश में कोरोन के 109 नमूनों की जीनोम सीक्वेंसिंग में से दो में कप्पा वैरिएंट मिला है। जबकि 107 में डेल्टा वैरिएंट मिले हैं। इन नमूनों की जीनोम सीक्वेंसिंग KGMU के माइक्रोबॉयलॉजी विभाग में किया गया है। हालांकि विभागाध्यक्ष प्रो. अमिता जैन का कहना है कि कप्पा वैरिएंट से घबराने की बात नहीं है।

आपको बता दे ये दोनों वैरिएंट प्रदेश के लिए नए नहीं हैं। इस लिए इसके संक्रमण से बचाव के लिए सामान्य नियमों का पालन करना जरुरी है। प्रदेश में कप्पा वैरिएंट का पहला मरीज गोरखपुर के BRD मेडिकल कॉलेज में एक मरीज में मिला था।

इस मरीज की जून माह में मौत हो चुकी है। अब यह वायरस KGMU में हुई जीनोम सीक्वेंसिंग में दो नए मरीजों में मिले हैं। डाक्टरों का कहना है कि डेल्टा वैरिएंट के म्यूटेशन से ही कप्पा वैरिएंट बना है। कप्पा वैरिएंट बी.1.617 वंश के म्यूटेशन से पैदा हुआ है।

जानकारी के अनुसार यह देश में पहले भी पाया जा चुका है। बी.1.617 के कई म्यूटेशन हो चुके हैं। जिनमें से ई484क्यू और ई484के के कारण इसे कप्पा वैरिएंट कहा गया है। इसी तरह बी.1.617.2 को डेल्टा वैरिएंट के नाम से जाना जा रहा है, जो कि भारत में कोरोना की दूसरी लहर के लिए जिम्मेदार माना गया है।

जाने इसके क्या है लक्षण–

डाक्टरों के अनुसार कप्पा वैरिएंट दूसरी लहर के लिए जिम्मेदार डेल्टा वैरिएंट से अधिक संक्रामक है। लेकिन यह डेल्टा प्लस से कम खतरनाक है। इसके लक्षण भी खांसी, बुखार, गले में खराश जैसे प्राथमिक लक्षण हैं। इसके बाद अन्य लक्षण कोरोना वायरस के पूर्व के वैरिएंट की तरह ही हैं।

आपको बता दे अभी इस वैरिएंट पर शोध हो रहे हैं। कोरोना वायरस के अन्य स्ट्रेन की तरह ही कप्पा वैरिएंट से बचने के लिए मास्क लगाने, भीड़-भाड़ में जाने से बचने, समय-समय पर हाथ धोने की सलाह दी गई है। यदि कोई खांसी-जुखाम बुखार के लक्षण दिखते हैं तो जांच के नमूना देने के साथ स्वयं को क्वारंटीन कर लेना चाहिए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button