लाल किला हिंसा मामले का वांटेड गिरफ्तार, सर पर था 1 लाख का इनाम

स्पेशल सेल के डीसीपी संजीव यादव के अनुसार, 26 जनवरी को हुई लाल किला हिंसा के मामले में फरार चल रहे बदमाशों की तलाश दिल्ली पुलिस की विभिन्न टीमें कर रही थी।

नई दिल्ली।। गणतंत्र दिवस के मौके पर लाल किला हिंसा मामले में पांच महीने से फरार चल रहे एक आरोपित को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने गिरफ्तार किया है। लाल किला पर हुई हिंसा एवं निशान साहिब का झंडा फहराने के मामले में पुलिस को उसकी तलाशी थी। उस पर एक लाख रुपए का इनाम भी घोषित किया गया था। आरोपित की पहचान गुरजोत सिंह के रूप में की गई है।

स्पेशल सेल के डीसीपी संजीव यादव के अनुसार, 26 जनवरी को हुई लाल किला हिंसा के मामले में फरार चल रहे बदमाशों की तलाश दिल्ली पुलिस की विभिन्न टीमें कर रही थी। इस दौरान स्पेशल सेल की नॉर्दर्न रेंज को सूचना मिली कि गुरजोत सिंह अपने किसी साथी से मिलने के लिए आएगा। इस जानकारी पर स्पेशल सेल की टीम ने अमृतसर से उसे गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस की टीम उसे दिल्ली लेकर आ गई है, जहां उससे आगे की पूछताछ की जाएगी।

26 जनवरी को किसान ट्रैक्टर रैली के दौरान लाल किले पर हिंसा हुई थी। उपद्रवी लाल किले के भीतर भी घुस गए थे और लाल किले की प्राचीर पर निशान साहब का झंडा फहराया था। इसके अलावा प्रदर्शनकारियों के साथ हिंसक झड़प में पुलिस के कई जवान जख्मी हो गए। इस मामले में पुलिस को 17 सौ वीडियो क्लिप मिले थे। जिसके आधार पर पुलिस ने 130 लोगों की गिरफ्तारी की थी और 70 लोगों की तस्वीर जारी की गई थी। जिसमें एक्टर दीप सिद्धू समेत कई लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। इन तस्वीरों में अभी पकड़ा गया आरोपित भी शामिल है।

गुरुजोत के अलावा इन आरोपितों पर था इनाम–

हिंसा की घटना में शामिल होने के आरोप में दिल्ली पुलिस ने दीप सिद्धू, जुगराज सिंह, गुरजोत सिंह और गुरजंत सिंह की गिरफ्तारी पर एक लाख रुपये का इनाम रखा था। इसके अलावा, जगबीर सिंह, बूटा सिंह, सुखदेव सिंह और इकबाल सिंह पर 50 हजार रुपये नकद इनाम देने का ऐलान किया गया था।

हिंसा मामले में 16 लोगों के खिलाफ चार्जशीट–

इस मामले में दिल्ली पुलिस ने एक्टर दीप सिद्धू समेत 16 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की है। जिसमें मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट गजेंद्र नागर ने सभी आरोपियों को 29 जून को पेश होने का आदेश दिया है। चार्जशीट में कहा गया है कि 26 जनवरी को लालकिले पर कब्जे की साजिश रची गई थी और लालकिले को विरोध-प्रदर्शन का केंद्र बनाने की योजना थी। चार्जशीट में कहा गया है कि गणतंत्र दिवस के दिन हिंसा फैलाने को सोची-समझी साजिश थी। इस हिंसा के जरिये केंद्र सरकार को बदनाम करने की योजना बनाई गई थी।

नौ फरवरी को गिरफ्तार हुआ था दीप सिद्धू–

हिंसा भड़काने के आरोप में दिल्ली पुलिस ने 9 फरवरी को दीप सिद्धू की गिरफ्तारी की थी। जिस पर कोर्ट ने पिछले 17 अप्रैल को दीप सिद्धू को जमानत दे दी थी। जमानत पर रिहा होते ही आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया की ओर से लालकिले को नुकसान पहुंचाने के मामले में पुलिस ने दीप सिद्धू को 17 अप्रैल को ही गिरफ्तार कर लिया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button