Wednesday , November 20 2019
Breaking News

यूपी PF घोटाला: अखिलेश यादव की मांग- सुप्रीम कोर्ट या हाईकोर्ट के जज से कराई जाए जांच

लखनऊ। उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन में बिजली इंजीनियरों और कर्मचारियों के भविष्य निधि घोटाले की जांच में EOW ने अपनी जांच तेज कर दी गई है। जहां मंगलवार को EOW ने पूर्व एमडी अयोध्या प्रसाद मिश्र को हिरासत में लिया तो वहीं विपक्ष योगी सरकार पर हमलावर है। बसपा सुप्रीमो मायावती के बाद सपा मुखिया अखिलेश यादव ने भाजपा सरकार पर घोटाला करने का गंभीर आरोप लगाया है।

लखनऊ स्थित सपा कार्यालय में मंगलवार को अखिलेश यादव ने भाजपा सरकार पर घोटाला करने का गंभीर आरोप लगाया है। समाजवादी पार्टी कार्यालय में अखिलेश यादव ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि इस महाघोटाला की जांच सुप्रीम कोर्ट या फिर हाईकोर्ट के सिटिंग से जज से कराई जाए। दूध का दूध और पानी का पानी सामने आ जाएगा। सरकार अपनी सच्चाई छिपा रही है।

सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा कि समाजवादी पार्टी की सरकार में DHFL को बिजली विभाग के कर्मचारियों के पीएफ का एक भी पैसा ट्रांसफर नही किया गया। यह सब काम भाजपा सरकार में हुआ और अपना घोटाला छुपाने की खातिर ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा दूसरों पर झूठा आरोप लगाकर बेदाग साबित होना चाहते हैं। अखिलेश यादव ने कहा कि DHFL को किस दिन पैसा दिया गया है एफआइआर में उसकी डिटेल्स हैं। समाजवादी सरकार मे DHFL को कोई भी फंड नही दिया गया।

सपा मुखिया ने कहा कि भाजपा सरकार ने तो विपक्ष के डर के कारण रात में ही इस मामले की सीबीआई जांच की संस्तुति की है। इनके पास विपक्ष के सवालों का एक भी जवाब नहीं है। इस बड़े घोटाले के लिए योगी सरकार जिम्मेदार है। इसकी जिम्मेदारी लेकर सीएम योगी को इस्तीफा देना चाहिए।

सपा मुखिया ने भाजपा सरकार में आंतरिक विवाद होने का आरोप लगाते कहा कि भाजपा के 300 विधायक योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री पद पर नहीं देखना चाहते है। सीएम योगी आदित्यनाथ बड़ा घोटाला करने के बाद भी मंत्री श्रीकांत शर्मा को नहीं हटा सकते। सीएम बेहद कमजोर हैं, मंत्री नहीं हटा सकते हैं। अब तो हर पार्टी भाजपा सरकार से सवाल कर रही है।

अखिलेश यादव ने कहा कि आज ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मेरे बनाए मेदांता अस्पताल के उदघाटन के पहले इस्तीफा दे दें तो बेहतर है। प्रदेश सरकार घबराई हुई है और इस घोटाले की सच्चाई को छिपाना चाहती है। उन्होंने कहा कि अपनी नाकाम नीतियों के कारण बिजली विभाग को पीछे ले जाने वाली सरकार किसी भी मोर्चे पर सफल नहीं है।

अखिलेश ने कहा कि बिजली विभाग जैसा महत्वपूर्ण विभाग है। यहां के कर्मचारियों ने मेहनत करके विभाग को खड़ा किया है। उसमे इतना बड़ा घोटाला हुआ है। अखिलेश यादव ने कहा कि यूपी में बिजली का टैरिफ सबसे अधिक है। लगातार जनता पर बोझ डालने के बाद भी लगातार घोटालों के कारण बिजली विभाग घाटे में हैं। देश में सबसे ज्यादा बिजली का बिल बिजली उत्तर प्रदेश में वसूला जा रहा है। बिजली विभाग के कारनामे पर तो वित्त आयोग ने भी ऊंगली उठाई है। इसी कारण यूपी में बिजली का कोटा नहीं बढ़ा। इस सरकार ने तो कोई नया पावर प्लांट भी नही खोला है। भाजपा ने घोटाला करके बिजली विभाग को बरबाद कर दिया है।सपा सरकार ने सबसे ज्यादा बिजलीघर लगवाए। प्रदेश में बिजली का उत्पादन सबसे ज्यादा बढ़ाया।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *