इस राज्य में भारी बारिश से 411 गांवों में मचा हाहाकार, मुख्यमंत्री ने की PM मोदी से बात

उन्होंने ट्वीट के माध्यम से प्रदेशवासियों को संबोधित करते हुए कहा है कि - ‘मेरे प्रदेश के भाई-बहनों, पूरा प्रशासन और मैं स्वयं पूरी रात राहत एवं बचाव में लगे रहे। यह बताते हुए खुशी है कि बाढ़ प्रभावित 12 जिलों के 411 गांवों में हमने एक भी जान का नुकसान नहीं होने दिया।

भोपाल।। मध्यप्रदेश में बीते दो दिनों से लगातार हो रही बारिश के चलते जनजीवन बुरी तरह अस्त-व्यस्त हो गया है। रविवार को भी सुबह से रिमझिम बारिश का दौर जारी है। नर्मदा समेत सभी नदी-नाले उफान पर हैं और होशंगाबाद, रायसेन, सीहोर और अन्य जिले बाढ़ की चपेट में आ गए।

हालांकि, जिला प्रशासन की टीमें एनडीआरएफ और होमगार्ड के जवान राहत एवं बचाव कार्य में जुटे हुए हैं और सेना की मदद भी ला जा रही है। अब तक लगभग 8000 लोगों को सुरक्षित बचा लिया गया है। इस बीच मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को राज्य की बाढ़ की स्थिति के संबंध में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बातचीत की और उन्हें स्थिति की जानकारी दी। मुख्यमंत्री ने यह जानकारी स्वयं ट्वीट के माध्यम से दी।

उन्होंने ट्वीट के माध्यम से प्रदेशवासियों को संबोधित करते हुए कहा है कि – ‘मेरे प्रदेश के भाई-बहनों, पूरा प्रशासन और मैं स्वयं पूरी रात राहत एवं बचाव में लगे रहे। यह बताते हुए खुशी है कि बाढ़ प्रभावित 12 जिलों के 411 गांवों में हमने एक भी जान का नुकसान नहीं होने दिया। आठ हजार लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया है।’ उन्होंने कहा है कि मैंने आज प्रात: काल माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी से चर्चा कर पूरी स्थिति की जानकारी दी है। उनका स्नेहपूर्ण समर्थन, सहयोग और आशीर्वाद मिल रहा है। रात को मैंने सेना के 5 हेलिकॉप्टर मांगे थे, तीन टेकऑफ कर चुके हैं और 2 और की तैयारी है। इससे बचाव कार्य में तेजी आयेगी।’

मुख्यमंत्री ने कहा कि – ‘सीहोर जिले के सोमालवाड़ा से फंसे सभी भाई-बहनों को सुरक्षित निकाल लिया गया है। एयरलिफ्ट करने का ऑपरेशन रायसेन के भौंती गांव से प्रारम्भ होने वाला है। रायसेन के विभिन्न क्षेत्रों में फंसे हुए लोग परेशान ना हो। आर्मी के दो कॉलम भी भेजे रहे हैं। हम सभी को सुरक्षित निकाल लेंगे।’

मध्यप्रदेश में भारी बारिश वाले इलाकों में राहत एवं बचाव कार्य जोर-शोर से जारी है। एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीम शनिवार को देर रात भी होशंगाबाद, सीहोर, रायसेन, बालाघाट और अन्य बाढ़ प्रभावित इलाकों में राहत एवं बचाव कार्य में लगे रहे। बता दें कि राज्य के मध्य, दक्षिण और पूर्वी क्षेत्रों में बाढ़ की स्थिति बनी हुयी है। नर्मदा और अन्य नदियां लगातार खतरे के निशान के ऊपर बह रही हैं। तटीय गांवों और कस्बों में बाढ़ का पानी आने के कारण हजारों लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। सेना के हेलीकॉप्टर और सेना के जवानों को भी राहत एवं बचाव कार्य में लगाया गया है। कम से कम नौ जिलों में बाढ़ की स्थिति ज्यादा चिंताजनक है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button