Ayodhya Ram Mandir Donation को लेकर फिर चर्चा में आये धर्मनिरपेक्षता के पक्षधर उदय प्रकाश, पांच साल पहले इसलिए लौटा दिया था अवार्ड

सोशल-मीडिया में बुरी तरह से ट्रोल होने के बाद उदय प्रकाश ने लोगों से दान को राजनीति के चश्मे से न देखने की अपील करते हुए कहा कि मेरे दान पर किसी को आपत्ति नहीं होनी चाहिए।

लखनऊ। अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए चंदा (Ayodhya Ram Mandir Donation) देने वालों में धर्मनिरपेक्षता के पक्षधर लेखक उदय प्रकाश का नाम भी जुड़ गया है। उदय प्रकाश ने ‘आज की दान-दक्षिणा (अपने विचार, अपनी जगह पर सलामत)’ लिखकर राम मंदिर निर्माण के लिए चंदे की रसीद फेसबुक पर पोस्ट की है। उन्होंने राम मंदिर के लिए 5 हजार 400 रुपए दान दिए हैं। पांच साल पहले कन्नड़ साहित्यकार एमएम कलबुर्गी की हत्या के बाद उदय प्रकाश ने अपना साहित्य अकादमी पुरस्कार लौटा दिया था।

 

सोशल-मीडिया में बुरी तरह से ट्रोल होने के बाद उदय प्रकाश ने लोगों से दान (Ayodhya Ram Mandir Donation) को राजनीति के चश्मे से न देखने की अपील करते हुए कहा कि मेरे दान पर किसी को आपत्ति नहीं होनी चाहिए। लोगों का कहना है कि काफी समय से चर्चा से बाहर रहने के बाद उदय प्रकाश ने अपने को फिरसे चर्चित करा लिया है। हालांकि उदय प्रकाश द्वारा राम मंदिर के लिए चंदा देने पर लोगों को हैरत हो रही है।

उल्लेखनीय है कि उदय प्रकाश अपने विचारों और कविताओं को लेकर अक्सर चर्चा में रहते आये हैं। छह दिसंबर को अयोध्या में विवादित ढांचा ध्वंस के बाद वह काफी आहत थे। दुखी मन से उन्होंने एक कविता लिखी थी, जिसकी खूब चर्चा हुई थी। इसी तरह पांच साल पहले कन्नड़ साहित्यकार एमएम कलबुर्गी की हत्या के बाद उदय प्रकाश ने अपना साहित्य अकादमी पुरस्कार लौटा दिया था। उन्होंने कहा था कि देश में असहिष्णुता बढ़ी है। इसके बाद देश में तमाम साहित्यकारों, लेखकों और कवियों ने अवार्ड वापस किए थे।(Ayodhya Ram Mandir Donation)

Agricultural Bill 2020: पूरी दुनिया में हो रही आलोचनाओं के बाद गाजीपुर बार्डर पर लगी कीलें हटाई गई
Chauri Chaura Incident के शताब्दी समारोह में बोले पीएम – आग थाने में नहीं जन-जन के दिलों में लगी थी
Westernization सुनियोजित साजिश, सनातन परम्परा को मजबूत करना आवश्यक

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button