कोरोना का कहर : ब्राजील सरकार की अपील – दूसरी लहर खत्म होने तक गर्भ धारण करने से बचें महिलायें

ब्राज़ीलियाई प्राथमिक स्वास्थ्य मंत्री राफेल कामरा ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर बेहद खतरनाक है। ये गर्भवती महिलाओं को सबसे ज्यादा प्रभावित कर रहा है।

डिटिजल डेस्क। लगभग डेढ़ वर्षों से कोरोना महामारी ने ने दुनिया में तबाही मचा राखी है। उम्मीदों के विपरीत एक वर्ष बाद कोरोना वायरस ने और खतरनाक रूप धारण कर लिया है। भारत में तो कोरोना की दूसरी लहर ने हाहाकार मचा दिया है। इन दिनों भारत में कोरोना से इतनी अधिक मौतें हो रही हैं कि शमशान घाट में अंतिम संस्कार के लिए भी लंबी प्रतीक्षा करनी पड़ रही है। भारत की ही तरह ब्राजील में भी कोरोना की दूसरी लहर मानवता पर कहर ढा रही है। मामला इतना गंभीर हो चूका है कि अब ब्राजील सरकार ने महिलाओं से कोरोना की दूसरी लहर खत्म होने तक गर्भवती न होने की अपील करनी पडी है।

ब्राज़ीलियाई प्राथमिक स्वास्थ्य मंत्री राफेल कामरा ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर बेहद खतरनाक है। ये गर्भवती महिलाओं को सबसे ज्यादा प्रभावित कर रहा है। ऐसे में महिलाओं को इस समय गर्भ धारण करने से बचना चाहिए। राफेल कामरा ने कहा कि जब स्थिति सामान्य होने पर ही गर्भ धारण करना उचित होगा। स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने भी स्वास्थ्य मंत्री के इस बयान का समर्थन करते हुए कहा है कि कोविड की इस लहर का दुष्प्रभाव गर्भवती महिलाओं पर पड़ रहा है। कोरोना से संक्रमित होने वालों में गर्भवती महिलाओं की तादाद ज्यादा है।

उल्लेखनीय है कि वैश्विक महामारी कोरोना का दुष्प्रभाव जीवन के हर क्षेत्र में पड़ रहा है। शिक्षा, स्वास्थ्य और उद्योग धंड़गे बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। सामाजिक जीवन में भी बदलाव आ रहा है। लोगों की सेक्स लाइफ भी प्रभावित हुई है। कोरोना ने प्रेमियों को प्यार का इजहार करने से भी रोक दिया है। चुंबन और आलिंगन अब इतिहास बनने की ओर अग्रसर है।

अनचाहे गर्भ को रोकने के लिए महिलाएं करती हैं सबसे अधिक इन चीजों का 

बताते चलें कि ब्राजील में अमेरिका के बाद दुनिया में कोरोना की वजह से सबसे ज्यादा मौतें हुई है। ब्राजील में अभी तक कोरोना की वजह से हुई मौतों की संख्या 3 लाख 68 हजार 749 है, जबकि संक्रमितों की संख्या 13.8 मिलियन है। नए वेरिएंट से संक्रमितों की संख्या में तेजी से इजाफा हुआ है। शायद इसीलिए ब्राजील सरकार को फिलहाल महिलाओं से गर्भवती न होने की अपील करनी पड़ी है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button