सीधी बस हादसा: गृह मंत्री अमित शाह ने जताया दुख, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह से की बात

राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने घटना की खबर मिलते ही आज होने वाले कई बड़े कार्यक्रम रद्द कर दिए हैं।

भोपाल।। सीधी बस हादसे में अब तक 38 यात्रियों के शव बाहर निकाले जा चुके हैं। वहीं सात यात्रियों को बचा लिया गया है। इस घटना को लेकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने गहरा दुख प्रकट किया है। उन्होंने इस संबंध में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से भी बात की है।

राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने घटना की खबर मिलते ही आज होने वाले कई बड़े कार्यक्रम रद्द कर दिए हैं। उन्होंने कैबिनेट बैठक, गृह प्रवेशम् कार्यक्रम आदि को भी स्थगित कर दिए है। इस भीषण सड़क हादसे को लेकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, ज्योतिरादित्य सिंधिया समेत अन्य लोगों ने गहरा दुख जताया है।

गृह मंत्री अमित शाह ने ट्वीट कर घटना पर दुख जताया है। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश के सीधी जिले में हुआ बस हादसा अत्यंत दु:खद है। मैंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से बात की है। स्थानीय प्रशासन राहत व बचाव कार्य के लिए हर संभव मदद पहुंचा रहा है। मैं मृतकों के परिजनों के प्रति गहरी संवेदनाएं व्यक्त करता हूं और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं।

राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने घटना पर खेद व्यक्त करते हुए कहा कि सीधी से सतना जा रही बस के नहर में गिरने से हुए हादसे में कई नागरिकों के दुखद निधन पर मेरी गहरी संवेदनाएं। ईश्वर से प्रार्थना है कि वे सभी दिवंगत आत्माओं को शांति प्रदान करें एवं शोकाकुल परिजनों को यह आघात सहने की शक्ति दें।

सागर में मंत्री गोपाल भार्गव ने सीधी बस दुर्घटना पर दुख व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि लापरवाही किस की है? जांच के बाद उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। लोगों को सावधानी रखनी चाहिए, जिससे ऐसी घटनाएं दोबारा न हों। बस ओवर-लोड थी या कोई अन्य लापरवाही हुई, इसकी जांच की जाएगी।

बता दें कि हादसा सीधी जिले में मंगलवार सुबह बाणसागर नहर में हुई है। यहां सतना जा रही एक यात्री बस अनियंत्रित होकर नहर में गिर गई। बस में करीब 60 लोग सवार थे। इनमें से अब तक 38 लोगों के मौत की खबर है, जबकि 7 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है। अभी भी राहत एवं बचाव कार्य जारी है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button