जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव: प्रयागराज में कमल खिलना कठिन, डिप्टी सीएम की प्रतिष्ठा दांव पर

पिछले दिनों डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने निर्दलीय व विपक्षी पार्टियों के 15 जिला पंचायत सदस्यों को बीजेपी में शामिल कर अपनी ताकत बढ़ा ली है। इसके बावजूद बीजेपी अब भी बहुमत के आंकड़े से काफी दूर है।

प्रयागराज। इन दिनों प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य हलकान नजर आ रहे हैं। दरअसल उन्हें अपने गृह जनपद प्रयागराज में जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लाक प्रमुखों के चुनाव की चिंता सत्ता रही है। यहां जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लाक प्रमुखों की ज़्यादातर सीटों पर बीजेपी और समाजवादी पार्टी में सीधा मुकाबला होने की उम्मीद है। प्रयागराज में कमल खिलाने के लिए खुद डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने कमान संभाल ली है। इसके बावजूद साड़ी संभावनाएं जोड़-तोड़ पर ही टिकी हैं।

उल्लेखनीय है कि प्रयागराज में जिला पंचायत की कुल 84 सीटें हैं और जीत के लिए कम से कम 43 सदस्यों का समर्थन आवश्यक है। फिलहाल जिले में बीजेपी को पंद्रह, बीजेपी के बागियों को तेरह, समाजवादी पार्टी को पचीस, बीएसपी को चार, कांग्रेस को एक, आम आदमी पार्टी को दो, अपना दल एस को चार और एआईएमआईएम के पास दो सीटें हैं। इसके अलावा अठारह निर्दलीय सदस्य हैं।

पिछले दिनों डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने निर्दलीय व विपक्षी पार्टियों के 15 जिला पंचायत सदस्यों को बीजेपी में शामिल कर अपनी ताकत बढ़ा ली है। इसके बावजूद बीजेपी अब भी बहुमत के आंकड़े से काफी दूर है। ऐसे में जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर कमल खिलना आसान नहीं होगा। जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर बीजेपी की पराजय केशव प्रसाद मौर्य की व्यक्तिगत हार मानी जायेगी और सीएम के पद पर उनका दावा कमजोर पड़ेगा।

जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए सपा ने मालती यादव को अपना उम्मीदवार बनाया है। माना जा रहा है कि बीजेपी निवर्तमान जिला पंचायत अध्यक्ष रेखा सिंह पर एक बार फिर दांव आजमाएगी। मौजूदा हालातों में बीएसपी, कांग्रेस व कोई निर्दलीय उम्मीदवार जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर दावेदारी फिलहाल नहीं करता नजर आ रहा है।

इसी तरह जिले में ब्लाक प्रमुखों की 23 सीटों पर भी कड़ा मुकबला होना तय है। सपा ने जिला पंचायत अध्यक्ष के साथ ही ब्लाक प्रमुखों की 23 में से इक्कीस सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है। बीजेपी ने अभी किसी भी पद पर अपने उम्मीदवार के नाम का एलान नहीं किया है। फिलहाल यहां सत्ता की चाभी अपना दल एस और बीएसपी के साथ ही निर्दलीयों के हाथ में रहेगी। ये जिसके भी साथ जाएंगे उसी की जीत होगी।

सदर ब्लाक प्रमुख प्रत्याशी बनने हेतु जिला बीजेपी अध्यक्ष को आवेदन

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button