Pratapgarh में अवैध शराब फैक्ट्री का भंडफोड़, चार महिलाओं समेत आठ लोग गिरफ्तार

कुंडा इलाके के शराब माफिया गुड्डू सिंह के हथिगवा थाना क्षेत्र स्थित फार्महाउस में गौशाला की आड़ में अवैध शराब बनाने का काम चल रहा था।

Pratapgarh। उत्तर प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव से पहले प्रतापगढ़ पुलिस ने अवैध शराब बनाने की फैक्ट्री का भंडफोड़ कर 10 करोड़ रुपये की अवैध शराब और उपकरण बरामद किया है। छापेमारी के दौरान पुलिस ने मौके से चार महिलाओं समेत आठ लोगों को गिरफ्तार किया है। शातिर शराब माफिया गोशाला की आड़ में इतना बड़ा अवैध काम कर रहा था। केमिकल व अवैध शराब जमीन के अंदर छिपाकर रखी थी, जिसे बरामद करने के लिए दो जेसीबी मशीन से पूरी रात खोदाई चलती रही।

जानकारी के मुताबिक़ कुंडा इलाके के शराब माफिया गुड्डू सिंह के हथिगवा थाना क्षेत्र स्थित फार्महाउस में गौशाला की आड़ में अवैध शराब बनाने का काम चल रहा था। गुड्डू सिंह की मां गांव की निवर्तमान प्रधान है। पुलिस टीम ने शुक्रवार शाम छह बजे ही छापेमारी की कार्यवाई शुरू कर दी थी। इस दौरान पुलिस ने 96 ड्रम केमिकल, 26 बोरी ढक्कन, 1.23 शीशी, 2700 गत्ता, 135 पेटी शराब समेत शराब बनाने के तमाम उपकरण बरामद किया है।

शातिर माफिया ने शराब व केमिकल और अन्य उपकरण जमीन में गाड़ कर रखवाया था। जेसीबी से खुदाई और तलाश रातभर चलती रही। अवैध शराब के इतने बड़े रैकेट के खुलासे से इलाके में हड़कंप मचा हुआ है। एडीजी ने मामले में हथिगवा इलाके के बीट दरोगा और सिपाही को निलंबित कर दिया है। हथिगवा के पूर्व एसओ उदय त्रिपाठी के खिलाफ भी एंटी करप्शन से जांच कराने की बात कहीं है।

एडीजी जोन प्रयागराज प्रेम प्रकाश स्वयं भारी पुलिस बल के साथ मोर्चा संभाले हुए हैं। .एडीजी ने मीडिया को बताया कि अवैश शराब के कारोबारी एवं फार्म हाउस के मालिक गुड्डू सिंह की गिरफ्तारी के लिए दबिश दी जा रही है। शराब माफिया के विरुद्ध गैंगस्टर और एनएसए की सख्त कार्रवाई की जाएगी। एडीजी के मुताबिक़ अवैध शराब को पंचायत चुनाव में आसपास के जिलों में खपाया जाना था।

गौरतलब है कि गत माह प्रतापगढ़ में जहरीली शराब पीने से दर्जनभर लोगों की मौत हो चुकी है। पडोसी जिले कौशांबी में भी इसी तर्ज की घटना हो चुकी है। जहरीली शराब से हुई मौतों के बाद अब प्रतापगढ़ पुलिस हरकत में आई है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button