Indian Railways ने 5 सालों में किया 6 हजार से अधिक स्टेशनों को free wi-fi सुविधा से लैस!

विश्व वाई-फाई दिवस पर मुझे यह घोषणा करते हुए खुशी हो रही है कि श्रीनगर और कश्मीर घाटी के 14 स्टेशन, देश भर में 6000+ स्टेशनों को जोड़ने वाले दुनिया के सबसे बड़े एकीकृत सार्वजनिक वाई फाई नेटवर्क में से एक का हिस्सा बन गए हैं।

नई दिल्ली।। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ‘डिजिटल इंडिया’ मिशन के तहत भारतीय रेलवे अपने यात्रियों और आम जनता को डिजिटल सिस्टम से जोड़ने के लिए दूर-दराज के स्टेशनों पर भी वाई-फाई सुविधा के विस्तार को जारी रखे हुए है। रेलवे ने श्रीनगर सहित कश्मीर घाटी के सभी 15 रेलवे स्टेशनों पर सार्वजनिक वाई-फाई सुविधा उपलब्ध कराने का काम पूरा कर लिया है। भारतीय रेलवे के 6,021 स्टेशन अब मुफ्त वाई-फाई नेटवर्क से जुड़ गये हैं। रेलवे ने यह उपलब्धि मात्र पांच साल में हासिल की है। उल्लेखनीय है कि भारतीय रेलवे ने जनवरी 2016 में मुंबई सेंट्रल रेलवे स्टेशन से मुफ्त वाई-फाई सुविधा की शुरुआत की थी।

रेल मंत्रालय ने रेलटेल को सभी रेलवे स्टेशनों पर वाई-फाई की व्यवस्था करने का कार्य सौंपा था। रेलटेल का सार्वजनिक वाई-फाई, रेलवायर के ब्रांड नाम के तहत उपलब्ध कराया जा रहा है, जो कश्मीर क्षेत्र के 15 स्टेशनों बारामूला, हम्रे, पट्टन, मझोम, बडगाम, श्रीनगर, पंपोर, काकापोरा, अवंतीपुरा, पंजगाम, बिजबेहरा, अनंतनाग, सदुरा, काजीगुंड और बनिहाल पर उपलब्ध है। ये स्टेशन कश्मीर के चार जिला मुख्यालयों श्रीनगर, बडगांव, बनिहाल और काजीगुंड में फैले हुए हैं।

केंद्र शासित प्रदेश जम्मू में चार जिला मुख्यालयों सहित 15 स्टेशनों कठुआ, बुद्धि, छन अरोरिया, हीरा नगर, घग्वाल, सांबा, विजयपुर, बाड़ी ब्राह्मण, जम्मू तवी, बजालता, संगर, मनवाल, राम नगर जेएंडके, ऊधमपुर और कटरा पर वाई फाई पहले से ही उपलब्ध था। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने रविवार को अपने संदेश में कहा, वाई-फाई लोगों को जोड़ने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और तेजी से ग्रामीण और शहरी भारत के बीच डिजिटल विभाजन को पाट रहा है।

विश्व वाई-फाई दिवस पर मुझे यह घोषणा करते हुए खुशी हो रही है कि श्रीनगर और कश्मीर घाटी के 14 स्टेशन, देश भर में 6000+ स्टेशनों को जोड़ने वाले दुनिया के सबसे बड़े एकीकृत सार्वजनिक वाई फाई नेटवर्क में से एक का हिस्सा बन गए हैं। इसके साथ ही घाटी के सभी स्टेशनों पर अब पब्लिक वाई फाई हो गया है।

उन्होंने कहा कि यह डिजिटल इंडिया मिशन के लिए एक महत्वपूर्ण कदम है और डिजिटल कनेक्टिविटी से वंचित लोगों को जोड़ने में एक लंबा सफर तय करेगा। मैं भारतीय रेलवे और रेलटेल की टीम की सराहना करता हूं, जिन्होंने इस उल्लेखनीय उपलब्धि को हासिल करने के लिए अथक प्रयास किया है।

केंद्रीय मंत्री डॉ जितेंद्र सिंह ने अपने संदेश में कहा, आज वाई-फाई समुदायों को जोड़ने और डिजिटल डिवाइड को पाटने के लिए तथा नवीन समाधानों को बढ़ावा देने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। महामारी के कारण, वस्तुतः डिजिटल ग्रुप से जुड़े रहने की आवश्यकता पहले से कहीं अधिक है।

भारतीय रेलवे अपने सीपीएसयू रेलटेल द्वारा बनाए गए स्टेशन वाई फाई नेटवर्क के माध्यम से ग्रामीण विभाजन को पाटने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। मुझे यह जानकर बहुत खुशी हो रही है कि जम्मू और कश्मीर में कश्मीर घाटी के 15 स्टेशन अब रेलवायर वाई-फाई के साथ लाइव हैं। यह क्षेत्र और देश के लोगों के लिए एक अतिरिक्त सुविधा होगी में सभी को विश्व वाई-फाई दिवस की शुभकामनाएं देता हूं।

रेलटेल के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक पुनीत चावला ने कहा कि “रेलटेल ने इस नेटवर्क को खड़ा करने के लिए केपेक्स की एक अच्छी खासी राशि का निवेश की है और इसके मुद्रीकरण के लिए हमने समस्त वाई फाई वाले स्टेशनों पर पेड वाई फाई प्लान की शुरुआत की है। 30 मिनट @ 1 एमबीपीएस की स्पीड के फ्री उपयोग के बाद उपयोगकर्ता को हाई स्पीड वाई-फाई के लिए मामूली शुल्क देते हुए प्रीपेड प्लान खरीदना होगा। हम विज्ञापन आधारित राजस्व के माध्यम से नेटवर्क का मुद्रीकरण भी करने जा रहे हैं जिसके लिए हम शीघ्र ही रुचि की अभिव्यक्ति (ईओआई) आमंत्रित करने जा रहे हैं।

प्रीपेड प्लान प्रतिदिन 10 रुपये (34 एमबीपीएस की स्पीड पर 5 जीबी) से लेकर 30 दिन के लिए 75 रुपये (34 एमबीपीएस की स्पीड पर 60जीबी तक का होगा जिनमें जीएसटी शामिल नहीं है। ऑनलाइन प्लान खरीदने के लिए कई भुगतान विकल्पों जैसे नेट बैंकिंग, वॉलेट, क्रेडिट कार्ड का उपयोग किया जा सकेगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button